4 साल के बाद दिल्ली में मानक से 20 गुना अधिक है इन दिनों वायु प्रदूषण का स्तर

4 साल के बाद दिल्ली में मानक से 20 गुना अधिक है इन दिनों वायु प्रदूषण का स्तर


राजधानी दिल्ली के लोगों को इन दिनों प्रदूषण के सबसे खराब दौर का सामना करना पड़ रहा है। इस साल की शुरूआत में जहां लॉकडाउन की वजह से प्रदूषण सबसे निम्न स्तर पर पहुंच गया था, वहीं इन दिनों प्रदूषण का स्तर अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ रहा है। जब से लॉकडाउन हटाया गया है उसके बाद से प्रदूषण के स्तर में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।


 


अक्टूरब माह से ही इसमें बढ़ोतरी दर्ज की जा रही थी अब प्रदूषण का स्तर अपने मानक से कई गुना अधिक पर पहुंच गया है। ऐसे में लोगों को तमाम तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। आलम ये हो गया है कि सीनियर सिटीजनों को ऐसे मौसम में अपने घर में ही रहने की सलाह दी जा रही है जिससे उनका बचाव हो सके।


राजधानी के डॉक्टरों का कहना है कि इन दिनों राजधानी में एयर क्वालिटी इंडेक्स लगातार 500 और 400 के पैमाने पर चल रहा है। सरकारी आंकड़ों को देखने से पता चलता है कि इनमें बड़े पैमाने पर कमी आती नहीं दिख रही है। धूल के महीन कण (PM2.5) फेफड़ों के कैंसर सहित हृदय और श्वसन संबंधी बीमारियों का कारण बन रहे हैं और COVID 19 वाले लोगों के लिए एक विशेष जोखिम पैदा कर सकते हैं।


भारतीय मेडिकल एसोसिएशन के मानद महासचिव असोकन ने कहा कि वायु प्रदूषण ने लोगों को कोरोनोवायरस संक्रमण के प्रति संवेदनशील बना दिया है। PM2.5 (धूल के महीन कण) नाक के माध्यम से शरीर के अंदर तक पहुंच जाते हैं और वहां फेफड़ों के अंदरूनी हिस्सों को नुकसान पहुंचाते हैं। ये भी कहा जा रहा है कि ये धूल के महीन कण कोरोनोवायरस संक्रमण के प्रसार में भी सहायक होते हैं।



दुनिया भर के डॉक्टरों और शोधकर्ताओं ने उन रोगियों में प्रदूषण और मौतों के बीच एक लिंक की सूचना दी है जिनके फेफड़े कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से कमजोर होते हैं। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि सोमवार को PM2.5(धूल के महीन कण) का स्तर विश्व स्वास्थ्य संगठन की सुरक्षित सीमा से 20 गुना अधिक था। 400 स्तर से ऊपर AQI के साथ पांच दिन 2016 के बाद नवंबर में इस तरह के भारी प्रदूषण का सबसे लंबा समय है। नवंबर आमतौर पर पूरे उत्तर भारत में प्रदूषण के लिए सबसे खराब महीना होता है क्योंकि किसान अपने खेतों में पराली(डंठल) जलाते हैं और ठंडा मौसम प्रदूषण का कारण बनता है। 


Popular posts
जिला मुख्यालय पर कल जारी होगी पंचायत चुनावों के आरक्षित/अनारक्षित सीटों की सूची
इमेज
क्षेत्रीय भाजपा विधायक करन सिंह पटेल का प्रतिनिधि विपिन पटेल भाजपा की छवि कर रहा है धूमिल।
इमेज
उत्तर प्रदेश में होने जा रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के आरक्षण सूची जारी की जा रही है फाइनल सूची 15 मार्च को
इमेज
एसडीओ बिंदकी ने कहा कि समय से बिल जमा करें योजना का लाभ उठाएं
इमेज
तिन्दवारा गांव में बहू व ससुर ने लगाई फांसी बहू की मौत ससुर जिला अस्पताल में भर्ती जहां जिंदगी और मौत से लड़ रहा है
इमेज