धर्म संस्कार महोत्सव में सातवें दिन भगवान विष्णु का वैदिक विधि विधान रहे धर्म से सहस्तारचन किया गया

धर्म संस्कार महोत्सव में सातवें दिन भगवान विष्णु का वैदिक विधि विधान रहे धर्म से सहस्तारचन किया गया 


अमौली(फतेहपुर)।अमौली क्षेत्र के ग्राम बुढ़वा में संस्कार महोत्सव एवम् विष्णु महायज्ञ मे सातवे दिन भगवान विष्णु का वैदिक विधि विधान से सहस्त्रार्चन किया गया ।आचार्यो के मन्त्रोच्चारण के साथ प्रमुख यजमान व भक्तो ने यज्ञ शाला मे आहुतियां प्रदान किया।यज्ञ शाला की परिक्रमा कर पुण्य अर्जित किया।आचार्य विमल शास्त्री ने बताया कि जहा भी भगवान विष्णु का अनुष्ठान होता है भक्त हनुमान किसी न किसी रूप मे वहाँ पहुच कर कथा का श्रवण करते है ।जिसके ऊपर हनुमान जी की कृपा हो गयी भगवान अपने आप उससे प्रसन्न हो जाते है।क्योकि भगवान को उनका भक्त सबसे प्रिय होता है।भक्ति के बस मे होकर भगवान ने शेबरी के जूठे बेर खाये और सुदामा की दीन दशा देख कर अपने आँसुओ के प्रवाह को नही रोक पाये और बगैर पानी के ही उनके पैर धूल गए।ऐसे भक्त वत्सल भगवान की भक्ति रस मे जो डूब जाता हैउसका परिवार के साथ आनन्द पूर्वक जीवन सार्थक हो जाता है।आचार्य ने सभी के जीवन के लिए यज्ञ की अनिवार्यता भी बताई।इस मौके पर सैकड़ो की संख्या में   लोग उपस्थित रहे।