ग्रामीणों से उगाही करती पकड़ी गई पाकिस्तानी सेना, पहचान छिपाने के लिए गाड़ी का नंबर छिपाया

नई दिल्ली,  भ्रष्टाचार में लिप्त पाकिस्तानी सेना के जवान पंजाब प्रांत के नारोवाल के पास गांव में उगाही करते पकड़े गए। पहचान छिपाने के लिए गाड़ी का नंबर छिपाया गया था। जब ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो सैन्यकर्मियों ने निहत्थे लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। घायलों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती किया गया है।


गुप्तचर सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान में सेना अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करती रहती है। असहाय नागरिकों का शोषण करना आम बात है। यह मामला जब पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के सामने उठाया गया तो एक वरिष्ठ अधिकारी कुछ ही घंटे बाद संबंधित गांव पहुंच गए। उन्होंने पुलिसकर्मियों को समझा बुझाकर मामला दर्ज करने से रोक दिया। जब ग्रामीणों ने प्रेस से संपर्क करने की कोशिश की तो पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी इंटर सर्विस इंटेलीजेंस (आइएसआइ) मामले को शांत करने में जुट गई।पाकिस्तान में अराजकता की हालत और असीमित अधिकार से लैस सेना के अहंकार ने आम आदमी का जीना मुहाल कर रखा है। सूत्रों का कहना है कि यह कहना गलत होगा कि सेना का उत्पीड़न केवल बलूचिस्तान, सिंध और गिलगिट बाल्टिस्तान तक ही सीमित है। असल में इसके हृदय स्थल पंजाब में भी ऐसी ही हालत है।