सेनाओं के मेजर जनरल रैंक के अफसरों को मिल रहा कनिष्ठ अफसरों से कम वेतन, सैन्‍य अदालत ने दिया आदेश

नई दिल्ली,  सशस्त्र सेनाओं के ट्रिब्यूनल ने सेनाओं के मेजर जनरल रैंक के अफसरों का वेतन बढ़ाने का केंद्र सरकार को निर्देश दिया है। चूंकि इन सैन्य अफसरों को अपने कनिष्ठ अफसरों से कम वेतन मिल रहा है। सरकार को भारतीय वायुसेना के एक एयर वाइस मार्शल का वेतन बढ़ाने को कहा गया है। एयर वाइस मार्शल पी.सुभाष बाबू ने वकील अंकुर छिब्बर के जरिये सशस्त्र सेनाओं के ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने छठा वेतन आयोग लागू होने के बाद हुई गफलत के बाद यह कदम उठाया। 











छठा वेतन आयोग लागू करने में गफलत, कनिष्ठ अफसरों को मिल रहा था अधिक वेतन


दरअसल, छठे वेतन आयोग के अमल से वरिष्ठ कर्नलों और ब्रिगेडियरों का वेतन मेजर जनरलों के वेतन से भी अधिक हो गया है। चूंकि उन्हें मिलने वाली 'मिलेट्री सर्विस पे' बाद में उन्हें मिलनी बंद हो जाती है। इसके चलते इन कनिष्ठ अफसरों जैसे कर्नलों और ब्रिगेडियरों का वेतन मेजर जनरल के वेतन से सात-आठ हजार रुपये अधिक हो जाता है।लिहाजा, ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष राजेंद्र मेनन ने अपने फैसले में कहा कि जवाबदार सरकार को कहा गया है कि वह याचिकाकर्ता के वेतन पर गौर करते हुए उसे एक जुलाई, 2017 से उसके तत्कालीन कनिष्ठों और उसके बाद के कनिष्ठों से अधिक करे। उन्हें इस अवधि तक के सभी एरियर भी प्रदान किए जाएं। साथ ही सरकार को यह भी दिशा-निर्देश दिए गए हैं कि वह याचिकाकर्ता को एक जुलाई, 2020 से पेंशन और अन्य संबंधित लाभ भी प्रदान करे। साथ ही फैसले की प्रति मिलने की तीन माह की अवधि में छह फीसद के ब्याज के साथ एरियर का भी भुगतान कर दिया जाए।


छिब्बर ने कहा कि सशस्त्र सेनाओं के ट्रिब्यूनल के इस फैसले से सशस्त्र सेनाओं के दो सितारे वाले अधिकारियों की लंबे से लंबित समस्या का निवारण हो जाएगा। उन्होंने कहा कि माननीय अदालत ने कहा कि याचिकाकर्ता का वेतन भी उनके कनिष्ठ अफसरों से अधिक किया जाए और उसी के अनुरूप उनकी पेंशन को भी रिवाइज किया जाए।


उल्लेखनीय है कि इससे पहले रक्षा मंत्रालय ने वेतनमान की विसंगति पर दर्ज शिकायत को खारिज कर दिया था। जबकि सैन्य अदालत ने याचिकाकर्ता की याचिका को मंजूर कर लिया। अपनी याचिका में मेजर जनरल रैंक (एयर वाइस मार्शल) के सैन्य अफसर का वेतन एक जुलाई, 2017 से 2,18,200 रुपये, जबकि उनके कनिष्ठ अफसर जैसे दो एयर कोमोडोर को सैन्य सेवा के लिए क्रमश: 2,26,800 और 2,20,800 रुपये मिल रहे थे। 


Popular posts
यूपी पंचायत चुनाव में ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, बीडीसी औऱ जिला पंचायत सदस्य के पदों के लिए चिन्हों का चयन हो गया है
इमेज
बंद हो जायेंगे 100, 10 के पुराने नोट, इस दिन के बाद नही रहेगे चलन में
इमेज
जनपद के समस्त टोल प्लाजों में फतेहपुर जनपदवासियों को छूट एवं सविधाएँ को लेकर जिलाधिकारी को सौंपा गया ज्ञापन
इमेज
जनपद के समस्त टोल प्लाजों में फतेहपुर जनपदवासियों को छूट एवं सविधाएँ को लेकर जिलाधिकारी को सौंपा गया ज्ञापन
इमेज
बकेवर सब्जी मंडी से सायकिल चोरी
इमेज