हस्तिनापुर में ASI की टीम ने डाला डेरा, खनन की तैयारी शुरू

 हस्तिनापुर में ASI की टीम ने डाला डेरा, खनन की तैयारी शुरू



न्यूज।विश्व के सबसे बड़े युद्ध यानी महाभारत के भुगोल एवं साक्ष्य को लेकर इतिहासविद गोते लगा रहे हैं। भारतीय पुरातात्विक सर्वेक्षण संस्थान ने हाल में बड़ी उम्मीदों के साथ हस्तिनापुर में डेरा डाला है। इतिहासविदों ने माना है कि हर टीले में इतिहास दफन है। अधीक्षण पुरातत्वविद मेरठ मंडल डीबी गणनायक की अगुवाई में आधुनिक उपकरणों के जरिए यहां उत्खनन का पहला चरण शुरू कर दिया गया है। अमृतकूप के पास स्थित टीले में एक गोलाकार आकृति मिली है, जिसमें नए साक्ष्य मिल सकते हैं। पुरातत्व विभाग की टीम ने पांडव टीले में ट्रेंच से मिट्टी हटाई, जहां से कुछ बर्तन मिले हैं। प्राचीन दीवारों की सफाई कर नए सिरे से व्यापक स्तर पर चरणबद्ध तरीके से खनन की तैयारी की गई है। ट्रेंच लगा आधा दर्जन स्थान चिह्न्ति किए हैं। (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग) एएसआइ के संयुक्त निदेशक डा. संजय मंजुल और असिस्टेंट ज्वाइंट डायरेक्टर आरती ने बताया कि सितंबर के बाद हस्तिनापुर में उत्खनन का नया युग शुरू होगा। यहां सिनौली जैसे महाभारतकालीन साक्ष्य मिल सकते हैं।

सिनौली में मिले थे 5000 साल पुराने रथ

डा. अमित पाठक बताते हैं कि 2005 और 2018 में हस्तिनापुर से 80 किलोमीटर दूर बागपत के सिनौली में खनन कराया गया। यहां पर 116 शव दफन मिले, जो दुनिया में पहली बार देखे गए। यहीं पर करीब पांच हजार साल पुराना एक रथ मिला, जिसे महाभारत काल की ऐतिहासिकता का सबसे बड़ा साक्ष्य माना गया। एक ताबूत भी मिला, जिसकी एएसआइ अब तक पड़ताल कर रही है।


बूढ़ी गंगा में मिले थे महाभारतकालीन बर्तन


1950-51 में भारतीय पुरातत्व के पितामह प्रो. बीबी लाल ने हस्तिनापुर में एक टीले का उत्खनन किया। इस दौरान इतिहासकारों के बीच यह बहस छिड़ी कि क्या यह वही कौरव-पांडवों वाली हस्तिनापुर है? प्रो. बीबी लाल ने उत्खनन कराया, जहां से कांच और क्रिस्टल से बने रंगीन बर्तनों के टुकड़े मिले, जो करीब चार हजार वर्ष पुराने आंके गए। इतिहासकार डा. अमित पाठक कहते हैं कि ऐसे बर्तन दुनिया के किसी सभ्यता में पहली बार मिले। प्रो. बीबी लाल ने बूढ़ी गंगा में उत्खनन कराया और बोरवेल से यही बर्तन दोबारा मिले। इससे महाभारतकालीन विकसित सभ्यता की पुष्टि हो गई। बाद में यह सभ्यता गंगा की बाढ़ में बह गई थी।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

पहले हस्तिनापुर की एैतिहासिकता को लेकर प्रश्न खड़े किए गए थे, जिसे प्रो. बीबी लाल ने 1950-51 के खनन से दूर कर दिया। साबित हुआ कि यह पुराणों में वíणत वहीं हस्तिनापुर है। यहां हर टीले में अंदर इतिहास के नए पन्ने फड़फड़ा रहे हैं। सिनौली उत्खनन ने महाभारत को पूरी तरह स्थापित करते हुए इतिहास के कई पन्नों को भी बदल दिया। गंगा किनारे सभी टीमों का खनन कराएं, बहुत कुछ नया मिलेगा।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र