ओवरलोड ट्रकों के जाम के झाम से फंसे राहगीर, प्रशासन की कार्रवाई के बावजूद, जारी है। ओवरलोडिंग का खेल,

 ओवरलोड ट्रकों के जाम के झाम से फंसे राहगीर, प्रशासन की कार्रवाई के बावजूद, जारी है। ओवरलोडिंग का खेल,


 

संवाददाता बाँदा  / -पैलानी तहसील अंतर्गत अमलोर  गांव में संचालित खंड संख्या सात में ओवरलोड ट्रकों का बोलबाला, 

आपको बता दें कि अमलोर पुलिया के पास ओवरलोड ट्रकों के पहिया का गुल्ला टूट जाने से पिपरहरी पैलानी मार्ग में जाम लग गया जाम में फंसे तिंदवारी विधायक बृजेश कुमार प्रजापति,

 उनकी गाड़ियां रेंगती नजर आई, मीडिया के कैमरों को देख कर मुस्कुराते हुए चल दिये, बता दें कि जब तक खदान संचालकों के ऊपर कोई बड़ी कार्रवाई नहीं की जाएगी तब तक ओवरलोडिंग नहीं बंद हो सकती है।

 ऐसे में मोरम माफियाओं के हौसले बुलंद हैं। जनपद में ओवरलोडिंग के चलते रोज कहीं ना कहीं हादसे हो रहे हैं। प्रशासन की कार्रवाई के बावजूद भी जनपद में ओवरलोडिंग का खेल नहीं बंद हो रहा है अभी 3 दिन पहले आरटीओ बांदा द्वारा दर्जनों ओवरलोड ट्रकों पर कार्यवाही की गई है इसके बावजूद भी बालू खनन माफियाओं को लगता है शासन-प्रशासन का डर नहीं है इसीलिए लगातार और लोडिंग का खेल जारी है।


 अब देखने वाली बात होगी कि  जिलाधिकारी द्वारा गठित टीम क्या कार्यवाही करती है। यह एक बड़ा सवाल है।

 जब इस संदर्भ में एसडीएम पैलानी  सुरभि शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि किसी भी कीमत पर ओवरलोड ट्रकों की निकासी नहीं की जाएगी।

 अगर ऐसी स्थिति में पट्टा धारक ने ओवरलोड ट्रकों को निकाल कर जाम की स्थिति पैदा की तो जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। वहीं क्षेत्र के पप्पू सिह, सौरभ सिंह, प्रेमचंद्र, रमेश आदि ने कहा कि  यदि ओवरलोड ट्रकों पर कार्रवाई नहीं की गई तो वहां से निकल रहे विद्यालय के छात्र-छात्राओं पर किसी भी समय बड़ा हादसा हो सकता है। अभिभावकों ने तहसील प्रशासन से शीघ्र ओवरलोडट्रकों पर कार्यवाही करने की गुहार लगाई

है