मुश्किलें हैं तो होने दो,

 "भाव - मुक्तक"


मुश्किलें हैं तो होने दो, 

                तेरे जज़्बात काफ़ी हैं l

कोई हो साथ या न हो, 

                 तेरा ही साथ काफ़ी है l

गुज़रता जा रहा जीवन, 

                 बहुत कुछ करना बाकी है l

ज़िंदगी के फ़लसफों को, 

                बहुत कुछ कहना बाकी है l

कोई हो साथ या न हो, 

                   तेरा ही साथ काफ़ी है l

मुश्किलें है तो होने दो, 

                   तेरे ज़ज्बात काफ़ी हैं l

ये राहों की भयावहता, 

                    छिपे मुस्कान अधरों में l

ये भावों के समंदर में, 

                  बहुत कुछ बहना बाकी हैl

चुभन ये टीस मन के भी, 

                 बहुत कुछ सहना बाकी हैl

'ह्रदय -गह्वर' के सीपी में, 

                 छिपे हैं भाव अंतरतम् l

इन्हीं 'भाव- मुक्तक' के, 

                  बनाना माल्य बाकी है l

बहुत कुछ करना बाकी है, 

                  बहुत कुछ बनना बाकी हैl

मुश्किलें हैं तो होने दो, 

                    तेरा ही साथ काफ़ी है l

मेरे ज़ज्बात मन के जो, 

                 बहुत कुछ कहना बाकी हैl



रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर