श्रीकृष्ण सुदामा चरित्र की कथा सुन भक्त हुए भावविभोर

 श्रीकृष्ण सुदामा चरित्र की कथा सुन भक्त हुए भावविभोर



संवाददाता बाँदा - श्रीमद भागगत कथा पुराण यज्ञ के छठवें दिन सुदाम चरित्र की कथा का वर्णन किया गया। इसमें भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा की दोस्ती ने दुनिया को यह संदेश दिया कि राजा हो या रंक दोस्ती में सब बराबर होते हैं। कथा के अंतिम दिन श्रोताओं की खूब भीड़ उमड़ी।

शहर के तिंदवारी रोड कालु कुआं डीआर पब्लिक स्कूल के पास चल रही श्रीमद भागवत कथा के छठवें दिन कथा व्यास आचार्य विनोद शुक्ल जी वैदिक द्वारा महाराज ने कहा कि कृष्ण और सुदामा जैसी मित्रता आज कहां है। द्वारपाल के मुख से पूछत दीनदयाल के धाम, बतावत आपन नाम सुदामा सुनते ही द्वारिकाधीश नंगे पांव मित्र की अगवानी करने राजमहल के द्वार पर पहुंच गए। यह सब देख वहां लोग यह समझ ही नहीं पाए कि आखिर सुदामा में ऐसा क्या है जो भगवान दौड़े दौड़े चले आए। बचपन के मित्र को गले लगाकर भगवान श्रीकृष्ण उन्हें राजमहल के अंदर ले गए और अपने सिंहासन पर बैठाकर स्वयं अपने हाथों से उनके पांव पखारे। कहा कि सुदामा से भगवान ने मित्रता का धर्म निभाया और दुनिया के सामने यह संदेश दिया कि जिसके पास प्रेम धन है वह निर्धन नहीं हो सकता। राजा हो या रंक मित्रता में सभी समान हैं और इसमें कोई भेदभाव नहीं होता। कथावाचक ने सुदामा चरित्र का भावपूर्ण सरल शब्दों में वर्णन किया कि उपस्थित लोग भाव विभोर हो गए। इस मौके पर परीक्षित श्रीमती सावित्री, चंद्रभूषण पांडे  ने बताया कि 27 जनवरी से दो फरवरी तक कथा आयोजित 3 को हवन भंडारे का आयोजन किया जाएगा। भागवत कथा में श्रीकांत पांडे ,वेद प्रकाश, ओम पांडे , शशि भूषण द्विवेदी, नरेंद्र सिंह नन्ना ममता काजल ,सविता ,सरिता आदि