नाबालिग से बलात्कार के आरोपी को दस साल की कैद

 नाबालिग से बलात्कार के आरोपी को दस साल की कैद

 



फ़तेहपुर । नाबालिग किशोरी के साथ जबरन बलात्कार करने के मामले में कोर्ट ने फैसला सुनाया है। न्यायाधीश रविकांत द्वितीय की अदालत ने आरोपी को दोषी ठहराते हुए 10 साल की कठोर कैद के साथ 10 हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई।

पहले से घात लगाए बैठा था आरोपी

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता देवेन्द्र कुमार भदौरिया ने बताया कि पीड़िता की मां ने 2 मार्च 2017 को अपने 16 वर्षीय नाबालिग किशोरी के साथ शाम को शौंच क्रिया के लिए जंगल गई थी। इस दौरान जब पीड़िता की महिला शौंच करने गई तो पहले से घात लगाए बैठा गांव का ही राधेश्याम अपने मशरूम के खेत मे बनी झोपड़ी में मुँह दबाकर किशोरी को खींचकर ले गया और उसके साथ बलात्कार कर जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से भाग गया। महिला ने मामले की शिकायत 3 मई 2017 को थाना सुल्तानपुर घोष में की थी।

दलीलें सुनने के बाद सुनाया फैसला

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजते हुए कोर्ट में उसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया। सुनवाई के दौरान पीड़िता व उसकी मां समेत नौ गवाहों ने बयान दर्ज कराए। जिस पर सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता देवेन्द्र कुमार भदौरिया व अखिलेश त्रिवेदी और बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने जिरह कर अदालत में अपनी दलीलें पेश की। दाखिल किए गए साक्ष्य, पीड़िता के बयान और शासकीय अधिवक्ता की दलीलों के आधार पर पॉक्सो कोर्ट प्रथम न्यायाधीश रविकांत द्वितीय की अदालत ने फैसला सुनाते हुए आरोपी राधेश्याम को नाबालिक के साथ जबरन दुष्कर्म करने के मामले में दोषी करार दिया। कोर्ट ने आरोपी राधेश्याम को पॉक्सो एक्ट की धारा 376 व 4 में 10 साल की कठोर कैद के साथ 10 हजार रुपए के जुर्माना की सजा सुनाई। साथ ही जुर्माने की राशि अदा न करने पर छह माह का अतिरिक्त कारावास भी भुगतने का आदेश दिया है।