सीएम योगी का संघर्ष: उत्तराखंड का युवक कैसे बना यूपी का सीएम, पांच बार सांसद बनने के बाद बने विधायक

 सीएम योगी का संघर्ष: उत्तराखंड का युवक कैसे बना यूपी का सीएम, पांच बार सांसद बनने के बाद बने विधायक



न्यूज। गोरखनाथ पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ आज दोबारा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ लेने जा रहे हैं। आज हम आपको सीएम योगी के बारे में खास बातें बताने जा रहे हैं, जो उनके संघर्ष की कहानी को बयां करता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को पंचूर गांव, पौढी गढवाल, उत्तराखंड में एक राजपूत परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट और माता का नाम सावित्री देवी है।सीएम योगी ने 1989 में ऋषिकेश के भरत मंदिर इंटर कॉलेज से 12वीं पास की और 1992 में हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय से गणित में बीएसी की। इसी कॉलेज से उन्होंने एमएससी भी की। योगी आदित्यनाथ 1992 में गोरखपुर आए और महंत अवेद्यनाथ से दीक्षा ली। इसके बाद वह 1994 में संन्यासी बन गए। महंत अवेद्यनाथ के निधन के बाद योगी को गोरखनाथ मंदिर का महंत बना दिया गया। बता दें कि 1998 में योगी ने गोरखपुर लोकसभा सीट से पहली बार भारतीय जनता पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ा और वो जीत गए। 12वीं लोकसभा चुनाव में वो सबसे कम उम्र के सांसद थे, उस समय उनकी उम्र केवल 26 वर्ष की थी। 1998 से लेकर मार्च 2017 तक योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से सांसद रहे। 2017 में उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। योगी आदित्यनाथ गोरखपुर लोकसभा सीट से लगातार 5 बार सांसद चुने गए हैं।

टिप्पणियाँ
Popular posts
विकास को 7 बार किस सांप ने काटा? सामने आई सच्चाई, अफसरों ने सुलझाई सच और झूठ की पहेली
चित्र
सर्प ने सात बार काटा सपने में सांप बोला नौंवी बार साथ ले जाएंगे कोई तंत्र मंत्र नही बचा पायेगा
चित्र
छात्र शौर्य द्विवेदी ने कबाड़ी से बनाई इलेक्ट्रिक बाइक
चित्र
विप्लवी ने असिस्टेंट कमिश्नर बन कर जनपद का नाम किया रोशन
चित्र
असोथर के 45 शिक्षकों ने संकुल पद से दिया इस्तीफा, धरना प्रदर्शन करके सरकार विरोधी लगाए नारे
चित्र