प्रधानमंत्री मातृत्व वंदन योजना के हेल्पलाइन में हुआ परिवर्तन

 प्रधानमंत्री मातृत्व वंदन योजना के हेल्पलाइन में हुआ परिवर्तन



फतेहपुर। प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का नया हेल्पलाइन नंबर अब 104 हो गया है। इस आशय की जानकारी मुख्य चिकित्साधिकारी डॉक्टर सुनील कुमार भारतीय ने दी। मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के हेल्पलाइन में परिवर्तन किया गया है। पहले इसका हेल्पलाइन 7998799804 था। इसमें परिवर्तन करते हुए शासन स्तर से अब इसका नंबर 104 कर दिया गया है जो पहले की अपेक्षा अब अत्यधिक सरल हो गया है। यह योजना 2017 से चल रही है। योजना के तहत गर्भवती महिलाओं को उनके पालन पोषण के पांच हजार रुपये दिये जाते है। जनपद के महिला चिकित्सालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों समेत उपस्वास्थ्य केन्द्रों पर निशुल्क इलाज किया जा रहा है। जिला कार्यक्रम समन्वयक ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ योजना में गर्भवती महिलाओं एवं धात्री माताओं को तीन चरणों में 5000 रूपये की धनराशि मानदेेय के रूप में दी जाती है।

योजना के तहत तीन किश्तों में मिलते हैं 5000 रूपये रू-

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के जिला कार्यक्रम सहायक ने बताया कि पहली बार गर्भवती होने पर योजना के तहत पंजीकरण के लिए गर्भवती और उसके पति का कोई पहचान पत्र या आधार कार्ड मातृ शिशु सुरक्षा कार्ड बैंक पासबुक की फोटो कापी जरूरी है। बैंक अकाउंट ज्वाइंट नहीं होना चाहिए। पंजीकरण के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने और गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर धात्री महिला को तीसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं। यह सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं ।

Popular posts
खेत जा रही देवरानी जेठानी को दबंग परिजनों ने पीटकर किया लहूलुहान
चित्र
ओम घाट में डूबती महिला को पीएसी जवान ने बचाया
चित्र
नगरी निकाय सामान्य निर्वाचन 2022 सहित तैयार कर आने जाने वाली मतदाता सूची के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से पेट्रोल पंप में हुआ भारी नुकसान
चित्र
नवागंतुक मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विकास भवन के कार्यालय में जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय, सहकारिता कार्यालय, आरईएस, जल शक्ति कार्यालय आदि कार्यालयों का किया औचक निरीक्षण
चित्र