बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति का स्वयंसेवक 14 वीं बार अपने खून से पत्र लिख अपनी मातृभूमि के प्रति प्रेम का इजहार कर ,प्रधानमंत्री से अलग राज्य की मांग किया - देवब्रत त्रिपाठी

 बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति का स्वयंसेवक 14 वीं बार अपने खून से पत्र लिख  अपनी मातृभूमि के प्रति प्रेम का इजहार कर ,प्रधानमंत्री से अलग राज्य की मांग किया - देवब्रत त्रिपाठी



फतेहपुर।इं प्रवीण पांडेय की अध्यक्षता में बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति ने खागा नगर पंचायत में महात्मा गांधी प्रतिमा के समीप बैठ 2019 में हुए पुलवामा शहीदों को याद किया गया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय अध्यक्ष रामप्रसाद धांधू ने नगर पंचायत खागा स्थिति महात्मा गांधी प्रतिमा समीप पूरी व्यवस्था की, जहाँ केंद्रीय अध्यक्ष इं प्रवीण पांडेय ने सभी साथियों के साथ महात्मा गांधी प्रतिमा में माल्यर्पण कर 2019 में पुलवामा में शाहिद हुए सीआरपीएफ जवानों को नमन किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में खागा तहसील के मशहूर शायर एवं कृषि वैज्ञानिक जैद अल हुसैन साहब मौजूद रहे। वही डॉ रामप्रताप मौर्य एवं फार्मासिस्ट अविनाश मौर्य के सहयोग से बीआरएस स्वयं सेवकों ने अपने खून से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख बुन्देलखण्ड अलग राज्य की मांग की। कार्यक्रम में केंद्रीय प्रवक्ता देवब्रत त्रिपाठी ने बताया कि चित्रकूट, बाँदा महोबा, फतेहपुर के बाद खागा में अनवरत 14वीं बार प्रधानमंत्री को खून से पत्र लिख कर अलग राज्य बुन्देलखण्ड की मांग की जा रही है बीआरएस कार्यकर्ता अपने आने वाली पीढ़ी के लिए बलिदान होने को भी तैयार है साथ ही बुन्देलखण्ड राष्ट्र समिति 2014 में नरेंद्र मोदी और उमा भारती द्वारा पूर्व में बुन्देलखण्ड अलग राज्य बनाने को लेकर किये गए वादे की याद दिलाते रहेंगे। केंद्रीय अध्यक्ष इं प्रवीण पांडेय ने बताया कि देश के शहीदों का सम्मान करते है और आने वाले दिनों में बुन्देलखण्ड अलग राज्य की मांग को लेकर शहीद हुए सभी  साथियों की याद मे कार्यक्रम किया जाएगा। आज का कार्यक्रम पुलवामा शहीदों को समर्पित रहा जिसमें केंद्रीय अध्यक्ष इं प्रवीण पांडेय, क्षेत्रीय अध्यक्ष रामप्रसाद धान्दू, केंद्रीय प्रवक्ता देवब्रत त्रिपाठी, भाजपा नेता अमरेंद्र सिंह, बसन्त लाल, संतोष कोटेदार, आरएसएस से धीरज मोदनवाल, रितेश गुप्ता, सौरभ विश्वकर्मा, भगवानदीन, कुँवर सिंह, मान सिंह, कोमल गुप्ता, समीर मिश्रा, विनोद श्रीमाली आदि युवा कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Popular posts
चार माह बीतने के बाद भी दलित महिला प्रधान को नहीं मिला चार्ज
चित्र
योगी सरकार ने छात्रवृत्ति का बदला नियम, जानिए पैसे लेने के लिए करना होगा क्या नया काम
चित्र
प्रेम प्रसंग के चलते प्रेमी युगल हुए एक दूजे के
चित्र
दिल्ली के निर्भया कांड में आरोपियों को फांसी की सजा दिलाने वाली देश की चर्चित अधिवक्ता सीमा समृद्धि लड़े गीं कानपुर की निर्भया का केस
चित्र
प्यार दे कर जो हमें विदा हुए संसार से,
चित्र