प्रधान और सेक्रेटरी की मिलीभगत से ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा है न्याय भटक रहे हैं दरबदर

 प्रधान और सेक्रेटरी की मिलीभगत से ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा है न्याय भटक रहे हैं दरबदर


हुसैनगंज/फतेहपुर।

 ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे भारतवर्ष में हर गरीब के लिए आवास योजना का आरंभ किया है। इस क्रम में उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र के गांव गौरा कला में सेक्रेटरी, ग्राम प्रधान रामबाबू रैदास की मिलीभगत से व सेक्रेटरी रामनरेश  तथा एडीओ पंचायत व ग्राम पंचायत मित्र की मिलीभगत से पात्र व्यक्तियों के आवास को निरस्त कर दिया गया है। तथा पात्र व्यक्तियों के आवास को  नपात्र कर दिया गया है। ना पात्रों की लिस्ट में जहां धनजोरा देवी, राधा देवी, भैयालाल तथा अन्य दर्जनों नाम आते हैं वही अपात्र व्यक्तियों में जिन्हें आवास दिया गया है उनमें शिव कुमार पुत्र शिव मोहन जिनके पास पक्का मकान दो मंजिला, ट्रैक्टर तथा पिता के पास सरकारी नौकरी है। वही राजेंद्र प्रसाद पुत्र शिव मोहन उपरोक्त के पास सारी व्यवस्थाएं होने के बावजूद इनको आवास की सुविधा दी गई है। इसी क्रम में दयाराम को दोबारा कॉलोनी, पक्का मकान होने के बावजूद भी दी गई है जबकि ग्रामीणों ने ग्राम प्रधान व सेक्रेटरी रामनरेश पर यह आरोप लगाया है कि ग्राम प्रधान प्रति कॉलोनी ₹20000 और सेक्रेटरी प्रति कॉलोनी ₹10000 रिश्वत के रूप में लेता है। जो व्यक्ति यह रुपया नहीं दे पाता है पात्र होने के बावजूद उसकी कॉलोनी निरस्त कर दी जाती है। जबकि जो व्यक्ति अपात्र हैं उससे रुपए लेकर उसके नाम आवास  कर दिया जाता है।

 क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस अभियान को ग्राम प्रधान वीडियो, एडीओ व ग्राम पंचायत मित्र तथा प्रधान मिलकर इसी प्रकार बट्टा लगाते रहेंगे। आखिरकार सरकार कब जागेगी इन सब की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए जिससे पात्र व्यक्तियों को आवास मिल सके तथा आपात जोकि रुपए देकर यह सारी कहानी बना रहे हैं उनको इन सब से बाहर कर संबंधित अधिकारियों पर उचित कार्रवाई की जाए।

Popular posts
योगी की नही विद्युत वितरण खंड प्रथम में चल रही है सपा मानसिकता के रामसनेही की सरकार
चित्र
14 साल की नाबालिग का थाने में हुआ प्रसव:
चित्र
भ्रष्ट अधिशासी अभियंता के रहते नहीं हो सकता है योगी सरकार का सपना साकार- तिवारी
चित्र
डीएम अपूर्वा दुबे का प्रयास लाया रंग, कोरोना केसों से मुक्त हुआ दोआबा – तीन दिनों से नया केस न मिलने से अफसरो ने ली राहत की सांस
चित्र
अगर आता है आपको भी बार-बार पेशाब, तो समझ लीजिए कि शरीर में पनप रही है ये बीमारियां
चित्र