मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री के आदेश हो रहे हैं बौने साबित, सपा मानसिकता के अधिशासी अभियंता की बोल रही है तूती

 मुख्यमंत्री और ऊर्जा मंत्री के आदेश हो रहे हैं बौने साबित, सपा मानसिकता के अधिशासी अभियंता की बोल रही है तूती


हवा में उड़ गया एम.डी बनारस का आदेश

अधिशासी अभियंता के हाथों की कठपुतली बन गए हैं प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता

रिश्वत लेने में नहीं होनी चाहिए कोई ढिलाई चाहे जितनी छानो मलाई की पड़ गई है परंपरा

हमको नहीं है बातें ऐसे आदेश रहते हैं आते और जाते

फतेहपुर। उत्तर प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने विद्युत व्यवस्था को बेहतर ढंग से संचालित करने के लिए विभिन्न प्रकार की लाभकारी योजनाओं को लागू किया है जिससे इस योजना का लाभ आम उपभोक्ताओं से लेकर किसानों तक को पूरी तरह से मिले। सरकार द्वारा जारी की गई इस योजना का लाभ सभी को मिलना चाहिए और लाभकारी योजना का संदेश जन-जन तक पहुंचना चाहिए। ऊर्जा मंत्री के निर्देशों को पूरी तरह से लागू करने तथा सरकार की मंशा के अनुरूप कार्य किए जाने का पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के ईमानदार एम.डी सरोज कुमार के निर्देश पर प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता ने सभी अधीक्षण अभियंताओं तथा अधिशाषी अभियंताओं को चेतावनी देते हुए कहा था कि आदेश प्राप्त होने के बाद कार्यालयों में काम कर रहे टी.जी.टू को तत्काल प्रभाव से पद मुक्त करते हुए उनके स्थान पर बाबुओं को नैतिक जिम्मेदारियां सौंपी जाए। इमानदार एम.डी बनारस के निर्देश पर तथा मुख्य अभियंता प्रयागराज मंडल की चेतावनी का पालन करते हुए प्रयागराज जनपद के मेजा तहसील के अधिशाषी अभियंता मनोज सिंह ने 9 फरवरी को कार्यालयों में कार्यरत सभी टी.जी.टू ओ को हटाकर उनके स्थान पर बाबुओं को सीटो के निर्वाहन की जिम्मेदारी सौंपी है इमानदार एम.डी बनारस के निर्देश का पालन बनारस मंडल के अलावा प्रयागराज मंडल के मेजा तहसील में प्रभावी होता नजर आने लगा है किंतु इस जनपद में एम.डी के आदेश को अधिशाषी अभियंता कचरा समझकर अपनी मनमानी हुकूमत को संचालित करने मे किसी प्रकार परहेज नहीं कर रहे हैं।

सूबे के मुखिया का फरमान, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का बयान, एम.डी बनारस का निर्देश और प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता की चेतावनी पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है। विद्युत वितरण खंड प्रथम में कार्यालय से लेकर सब डिवीजनो   में लगभग 13 बाबू कार्यरत हैं और उसके बाद भी खंड प्रथम की मलाईदार सीटों पर टी.जी.टू अपने आका के निर्देश पर पूरी तरह से मालामाल हो रहे हैं। मालूम रहे कि ईमानदारी के धनी एम.डी बनारस के निर्देश पर प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता ने बीती 5 फरवरी को चेतावनी भरा आदेश जारी करते हुए कार्यालयों से टी.जी.टू ओ की सेवा समाप्त करने का निर्देश दिया था किंतु आदेश के 5 दिन बीत जाने के बाद भी मुख्य अभियंता के आदेश का पालन नहीं किया गया है। विद्युत वितरण खंड प्रथम मे इस बात की पूरी तरह से चर्चा है कि अधिशासी अभियंता रामसनेही यादव ने अपने शीर्ष अधिकारियों को गुमराह करते हुए बाबुओं की कमी दिखाकर टी.जी.टू ओं से काम लिए जाने का जिक्र किया है। जबकि खंड प्रथम में कार्यरत बाबुओ को महत्वहीन पदों की जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह जनपद के इतिहास में पहली बार देखने को मिल रहा है। हैरत की बात तो यह है कि अधिशासी अभियंता ने ड्राफ्टमैन का काम जिस टी.जी.टू को सौंप रखा है वह पूरी तरह से नियम के विरुद्ध है किंतु यहां पर वही कहावत पूरी तरह से चरितार्थ हो रही है कि जब सैंया भए कोतवाल अब डर काहे का।ड्राफ्टमैन का काम या तो ड्राफ्टमैन देख सकता है या फिर अवर अभियंता लेकिन इस कार्यालय में भ्रष्टाचार के आगे सब जायज है।