समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने धूमधाम से मनाया राज्य सभा सांसद का जन्मदिन

 समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने धूमधाम से मनाया राज्य सभा सांसद का जन्मदिन




विशम्भर प्रसाद निषाद समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा सांसद के 59 वें जन्म दिन मनाने को लेकर कार्यकर्ताओं ने  धूमधाम से मनाया जन्मदिन        


फतेहपुर। जनपद के अयाह शाह विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं द्वारा विशंभर प्रसाद निषाद जी को उनके 59वें जन्मदिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया  जिसमें राज सभा सांसद ने एक सभा को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा चलाई गई  जनता के हित में योजनाओं का बखान करते हुए सभा को संबोधित किया वहीं सभा समाप्त होने के बाद उन्होंने केक काटकर अपना जन्मदिन मनाया वही भोजन की व्यवस्था भी की गई है वा समस्त चाहने वालो को  सादर आमंत्रित भी किया गया । निषाद वंश में जन्म में वर्तमान में निषाद वंश के सबसे ज्यादा तजुर्बे दार राजनीतिज्ञ 4 बार विधायक उत्तर प्रदेश सरकार में 3 बार कैबिनेट मंत्री एक बार फतेहपुर से लोकसभा सांसद व दो बार लगातार राज्यसभा सांसद व समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा में मुख्य सचेतक सांसद रत्न से सम्मानित इन्होंने राज सभा के माध्यम से आरक्षण की की मांग को कई बार दिल्ली तक पहुंचाया, व इन के द्वारा कश्यप निषाद बिंद समाज की सभी और भी पुकारू जातियों को परिभाषित sc आरक्षण के लिए दिन रात मेहनत की लेकिन उनका कहना है कि मेरी मेहनत रंग लाएगी मैं समाज के लिए हमेशा लड़ता रहूंगा हमेशा समाज की बातों को वह समाज के विषयों को दिल्ली तक ले जाऊंगा    और  समाज के लिए ही नहीं बल्कि उन सभी दबे कुचले छोटे दलित वर्ग लोगों जिनकी कोई सुनवाई नहीं करता मैं उनकी आवाज यूं ही बुलंद करता रहूंगा आज कार्यक्रम स्थल के एस इंटर कॉलेज औ‌गासी रोड गाजीपुर फतेहपुर उत्तर प्रदेश                               उन्होंने इससे पहले बीते दिन...         सपा के राष्ट्रीय  महासचिव विशंभर प्रसाद निषाद( राज्यसभा सांसद )गांव गांव जाकर बैठक कर सुनी समस्याएं सत्ता में ना होने के बाद भी  फतेहपुर ज़िले के  ग्रामसभा अढावल को लिया गोद   फतेहपुर/असोथर ब्लाक के अंतर्गत कोंडार,महमदपुर,पथरी, अढावल,  चौभैय डेरा , पल्टुपुर,ललौली, आदि गांवों में जाकर जन चौपाल लगाकर लोगों की बातें सुनी, जहां लोगों ने अपनी अपनी समस्याएं जाहिर की कहीं नल ,नहीं है तो कहीं सड़कें ,नहीं हैं तो कहीं बिजली, की असुविधा है तो कहीं गरीबी का जिक्र हुआ , राज सभा सांसद ने समस्याओं को लिखित लेकर व उन समस्याओं को अपनी डायरी में लिख कर उन समस्याओं को हल करने की बातें कहीं व, सरकार आने पर समस्त प्रकार की समस्याओं व निवारण का भी आश्वासन दिया, उन्होंने कहा 20 साल पहले विकास किया था तब से वैसे का वैसा अटका पड़ा विकास, उनको देखने के लिए वह उनकी बातें सुनने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी जन चौपाल में लोगों ने अपनी अपनी समस्याएं भी जाहिर की जहां इस मौके पर राज्यसभा सांसद  के साथ वर्तमान जिला अध्यक्ष विपिन यादव पूर्व जिला अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह यादव पूर्व विधायक मदन गोपाल वर्मा वीरेंद्र यादव भोला यादव नगर पालिका अध्यक्ष प्रतिनिधि हाजी रजा रफी अहमद आजम खान रीता प्रजापति डीजी कुशवाहा(जिला महासचिव ),राजेन्द्र निषाद (जिला सचिव),प्रदीप सोनकर(वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष लो०वा०), रावेन्द्र निषाद (जिला कार्यकारणी सदस्या) श्री कांत भोजवाल (पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ जि०उ०)  फकरुद्दीन नेता(म०स० अध्यक्ष),रामबाबू निषाद ,नीलम ज्योति,विनोद सोनकर समाज वादी पार्टी के कार्यकर्ता , वा अन्या ग्रामीण लोग मौजूद रहे ।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र