विरुदावलियाँ गा- गा करके,

 "चारण"



विरुदावलियाँ गा- गा करके, 


             मक्खन को लगाना न आया l

जो हिय में है वो लब मेंं है, 

             बस इतना करना ही आया l

जो स्नेह हमारे ह्रदय में, 

             बस वो ही दिखाना ही आया l

जो हिय में है वो लब में है, 

               बस इतना कहना ही आया l

विरुदावलियाँ गा -गा करके, 

             मक्खन को लगाना न आया l

माना जग में है कदर वहीं, 

              फर्जी गुणगान जिसे भाया l

हम सीख नहीं अब तक हैं सके, 

               जन मुर्ख बनाना न भाया l

जो हिय में है जो लब में है, 

               बस इतना कहना ही आया l

विरुदावलियाँ गा- गा करके, 

             मक्खन को लगाना न आया l

माना बस विवश है वो ही मन, 

          जिस मन को दिखावा न भाया l

मुख सम्मुख कह के प्रीत वचन, 

             करना नुकसान नहीं आया l

जो हिय में है वो लब में है, 

            बस इतना कहना ही आया l

कैसे जन बन जाएं वो हम, 

            जिसके मन में है प्रीति नहीं l

जग के उच्चासन को पाना, 

            जिसके मन की है रीति नई l

झूठी वाणी को कह- कह कर, 

             नुकसान को करना न आया l

जो हिय में है वो लब में है, 

            बस इतना कहना ही आया l

विरुदावलियाँ गा-गा करके, 

           मक्खन को लगाना न आया l



रश्मि पाण्डेय

ARP MALVAN ,BINDIKI, FATEHPUR

Popular posts
बुंदेलखंड जन अधिकार पार्टी ने जिलाध्यक्ष हनुमान प्रसाद दास राजपूत को विधानसभा बांदा सदर से प्रत्याशी किया घोषित,
चित्र
उत्तर प्रदेश फ्री स्मार्ट फोन और टैबलेट योजना 2021: इंतजार खत्म, योगी सरकार इसी माह से करेगी वितरण
चित्र
राजस्व वसूली एवं सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने वाले के विरुद्ध दर्ज हुई एफ आई आर
चित्र
दूल्हे के शराब पीने से दुल्हन ने तोड़ी शादी, कहा-शराबी के साथ पूरी ज़िंदगी नहीं गुजार सकती
चित्र
कान्हा गौशाला मलाका में प्रथम नेत्र चिकित्सा शिविर का हुआ आयोजन
चित्र