ग्राम बरिगवां में आवास आवंटन में पात्रता नियमों की धज्जियां उडी

 ग्राम बरिगवां में आवास आवंटन में पात्रता नियमों की धज्जियां उडी


गिरिराज शुक्ला



बिंदकी फतेहपुर।विकास खंड देवमई के ग्राम बरिगवां में आवास आवंटन में पात्रता को दर किनार कर अपात्रों को आवास दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है। आवास आवंटन सूची को देखने के बाद जो नाम प्रकाश में आए हैं वो बहुत ही चौंकाने वाले हैं। जिससे साबित होता है कि किस तरह से पात्रता नियमों को दर किनार कर अपात्रों का चयन कर सरकारी योजना का दुरुपयोग किया गया है।

आवास आवंटन सूची से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस सूची में कई ऐसे नाम हैं जिनके गांव में जहां बड़े बड़े पक्के मकान है साथ ही उनके अन्य स्थानों में भी पक्के माकान पहले से ही बने हुए थे और उन परिवारों के लोग नौकरी पेशा में भी है। ऐसे लोगों में श्रीमती अर्चना गुप्ता पत्नी स्व. सुरेश कुमार है जिसका एक बेटा पुलिस विभाग में तैनात हैं।इसी सूची में डेनिल गुप्ता पुत्र शिवकुमार उर्फ काका गुप्ता है जिसके गांव के साथ ही कानपुर महानगर में भी पक्के मकान है और व्यापारी  हैं। इसका एक भाई सेना में तैनात हैं। डेनियल दो पहिया व चार पहिया वाहन का स्वामी भी है। ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार तत्कालीन ग्राम प्रधान ने एक परिवार में चार से पांच आवास तक नियमों को ताख पर रख कर पात्रता नियमों का उल्लघंन किया है। सबसे खास बात यह है कि आवास निर्माण के मानक भी पूरे नहीं किए गए हैं।पहले से बने मकानों को ही नया प्लास्टर करके नवनिर्माण की शक्ल देने की कोशिश की गई है। ग्रामीणों ने जिलाधिकारी श्रीमती अपूर्वा दुबे से आवास आवंटन में किए गए  अपात्रों के चयन कर पात्रों के हक को मारने की जांच कराकर कार्रवाई किए जाने की मांग की है।