हमसे जो नफरत करते थे

 शीर्षक =मुरझाए क्यों हैं 


हमसे जो नफरत करते थे



आज मिले मुस्काये क्यों हैं,


पहले कलियों सा खिलते थे 


अब इतना मुरझाए क्यों हैं,


जीवन में दुबारा न मिलनें की


कभी कसम तो खा ली थी,


आज अचानक देख राह में 


पास हमारे आये तो हैं ,


लेकिन जो कलियों से खिलते थे 


अब इतना मुरझाए क्यों हैं,


कहाँ गया फूलों सा चेहरा 


कहाँ खो गयी होठों की लाली,


कहाँ वो चंचल शोख अदायें 


हिरनी जैसी चाल मतवाली,


एक साथ में इतनी बातें सुन


वो थोड़ा सा शरमाये तो हैं,


लेकिन जो कलियों से खिलते थे 


अब इतना मुरझाए क्यों हैं,


वो बोले सोच पुरानी यादें 


पास आपके आये तो हैं,


उनकी दर्द भरी खामोशी,


देखकर हम घबराये तो हैं,


जो हरदम कलियों से खिलते थे 


अब वो इतना मुरझाए क्यों हैं ।


रोहित कुमार त्रिपाठी 

 खागा फतेहपुर

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
एक तो दहेज प्रताड़ना ऊपर से देवर की घिनौनी हरकत से त्रस्त महिला ने लगाई न्याय की गुहार
चित्र
श्री बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधन के संबंध में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को योगी सरकार का बड़ा तोहफा, बढ़ाया गया मानदेय
चित्र
पत्रकार की चोरी गयी गाड़ी को पुलिस ने किया बरामद चोर गिरफ्तार।
चित्र