एक तो दहेज प्रताड़ना ऊपर से देवर की घिनौनी हरकत से त्रस्त महिला ने लगाई न्याय की गुहार

 एक तो दहेज प्रताड़ना ऊपर से देवर की घिनौनी हरकत से त्रस्त महिला ने लगाई न्याय की गुहार



कानपुर। कानपुर देहात के थाना सजेती ग्राम कोरिया की एक महिला ने थाने में शिकायत पत्र देते हुए दहेज उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए देवर द्वारा किए गए घिनौनी हरकतों की बात बताई। 

गांव कोरिया निवासी रामबाबू की पत्नी शालिनी उर्फ वर्षा ने थाना अध्यक्ष को शिकायत पत्र देते हुए बताया कि उसकी शादी 13 जून 2020 को रामबाबू पुत्र स्व0 रामनरायण उर्फ झुरई निवासी ग्राम कोरियां थाना सजेती जनपद कानपुर नगर के साथ मय दान दहेज के हिन्दू रीति रिवाज के सम्पन्न हुआ था।

प्रार्थिनी का विवाह विपक्षी के साथ झूठ व फरेब करके सम्पन्न कराया गया था। पीड़ित को

विपक्षी के छोटे भाई से मिलाया गया और उसीसे शादी करने को कहा गया था जिसका नाम

शिवनारायण उर्फ प्रदीप बताया गया तथा यह कहा गया कि लड़का पढ़ा लिखा है।जल्द ही सरकारी नौकरी भी लगने वाली है। तथा दहेज लड़के के अनुसार देना होगा तभी शादी सम्पन्न होगी। पीड़ित के पिता ने बेटी का जीवन सुखमय समझकर ससुराल पक्ष की सारी बाते मानी तथा उनके कथनानुसार ही सब किया। पीड़ित के पिता ने विपक्षी के छोटे

भाई अर्थात् देवर के हाथों से ही  लिखाकर जिसमें सारा सामान एंव बरीक्षा में 21,000/-रुपये नगद तिलक/फलदान में कमशः में 51,000/-रुपये नगद व

1,21000/-रुपये तथा एक मोटरसाइकिल पल्सर की डिमाण्ड की गयी थी। पीड़ित का

विवाह विपक्षी के साथ सम्पन्न हुआ तब ज्ञात हुआ कि जो लड़का दिखाया व बताया गया था

उसकी जगह उसके बड़े भाई से रिश्ता किया गया है, जो कि विधि विरूद्ध था परन्तु महिला

ने यह नियति का खेल समझकर  अत्याचार भी सहन कर लिया। शालिनी की शादी में जो

भी स्त्रीधन तथा चढ़ाव मे जेवर दिये गये थे वह सब शादी के एक माह बाद ही उससे ले लिये गये जब काफी पूछा और मांगा गया तो विपक्षी ने तथा

शालिनी के देवर ने बताया कि तू चुपचाप रहे समाज में अपनी बात बनाने के लिये जेवर बहनो को दे दिये गये है। कुछ समय बाद वापस आ जायेगें। जिस पर भरोसा करके पीड़ित काफी समय तक शान्त रही परन्तु जब काफी समय बाद फिर मांग की तो प्रार्थिनी के पति व देवर ने प्रार्थिनी को मारापीटा तथा पति की गैर मौजूदगी में देवर शिवनारायण उर्फ प्रदीप ने छेड़छाड़ व दुष्कर्म करने का प्रयास किया, जिसकी शिकायत प्रार्थिनी ने घर वालो से की तो सभी ने लोक-लाज का हवाला देकर शान्त कर दिया तथा प्रार्थिनी के पति ने बहुत ही

घिनौनी बात कही " प्रदीप मेरा छोटा भाई है तुम्हारा देवर है। हमसे भी खूबसूरत है अगर

उसके साथ सो लोगी तो खूबसूरत सन्तान होगी जिनसे घर में मेरी इज्जत और तुम्हारी भी

प्रताड़ना कम हो जायेगी इस बात से प्रदीप का मनोबल बढ़ गया और पीड़ित के साथ

शिवनारायण उर्फ प्रदीप ने दुष्कर्म किया। विपक्षी ने पीड़ित को मायके से मिले जेवर भी छीन लिये  तथा उन्हें बेचकर व्यापार में लगाने का तथा पीड़ित को सुख देने का वादा किया जो आज तक नही निभाया गया। विपक्षी के परिवार ने पीड़ित से झूठ बोलकर मायके से13.00,000/-रुपये लाने का दबाव बनाया ताकि देवर प्रदीप की नौकरी लगवाई जा सके जिसे शालिनी के मायके वालो ने कर्ज लेकर पूरा किया तथा दो लाख पूरा होने पर जब मायके वालो ने पैसे वापस मांगे तो विपक्षी व देवर प्रदीप ने शालिनी के साथ पुनः

अत्याचार व प्रताड़ना प्रारम्भ कर दी। जिसमें इस बार प्रार्थिनी की तीनों ननदे भी सहयोगी हो

गयी। पीड़ित ने इतने अत्याचार सहने के बावजूद समाज में उक्त लोगो की छवि न बिगड़े

और पीड़ित अपना खर्च व बच्चो का भरण पोषण सुचारू रूप से चलाने हेतु मायके से पैसे

उधार लेकर अपना ब्यूटी पार्लर व कास्मेटिक की दुकान खोली जिसको बन्द करने का काफी

प्रयास किया गया। पीड़ित की दुकान में जब लड़किया पार्लर में आने लगी तो देवर प्रदीप

दुकान के बाहर बैठकर लड़कियों के सामने गन्दी हरकते करने लगा जिससे पार्लर में बुरा

असर पड़ता था, जब ससुराल पक्ष को यह अहसास हुआ कि प्रार्थिनी स्वालम्बी बनकर अपना व्यापार व भरण पोषण करने लगी है तो ससुराल वालों  ने पुनः शालिनी को मारापीटा गया और उल्टे सीधे आरोप लगाने लगे। दिनांक 16 दिसंबर 2020 को जबरन दुकान में ताला डाल दिया। जिस पर पीड़ित ने काफी विरोध किया तब शालिनी को मारापीटा गया तथा बिना खाना-पीना दिये दो दिन तक कमरे में बन्द रखा गया तथा दिनांक 19 दिसंबर 2020

को पुनः मारापीटा गया तथा सारा स्त्रीधन जो पहले से विपक्षीगणो के पास है न देने पर जान

से मारने की नियत से गला दबा दिया गया। किसी तरह भुक्त भोगी अपनी जान बचाकर बाहर

भागी तब जाकर वह बच सकी।  दिनांक 19.12.2020 से पहने हुये फटे कपड़ो में अपने मायके आयी और तब से असहाय स्थिति में अपने तीनो बच्चो को लेकर अपने मायके में आश्रितो की तरह जीवन व्यतीत करने के लिये मजबूर हो गयी है।अतः  पति रामबाबू व देवर शिवनारायन उर्फ प्रदीप, सास ज्ञानकुमारी, ससुर रामनारायन उर्फ झिरई एंव ननद रामदेवी, शिवदेवी व जयदेवी द्वारा किये गये अत्याचार, अन्याय, शोषण, धोखाधड़ी व मारपीट तथा मानसिक व शारीरिक उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज कर उक्त विपक्षीगण के विरूद्व उचित कार्रवाई की जाए। जिससे अन्य किसी के साथ अन्याय न हो सके।

Popular posts
पाल समुदायिक उत्थान समिति एवं राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के तत्वाधान में सम्मेलन संपन्न
चित्र
चार माह बीतने के बाद भी दलित महिला प्रधान को नहीं मिला चार्ज
चित्र
मुंबई में धमाल मचा रहे हैं फतेहपुर के शिवार्थ श्रीवास्तव
चित्र
उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए रोजगार का सुनहरा मौका, चार अक्टूबर को हर जिले में लगेगा अप्रेंटिसशिप मेला
चित्र
प्यार दे कर जो हमें विदा हुए संसार से,
चित्र