सीख करके गुनगुनाना ,

 "कीट"


सीख करके गुनगुनाना ,


                  राह में जब मैं चली l

राह सीधी थी मगर, 

                कुछ ठोकरें जमकर लगीं l

सामने पत्थर हटा ,

               चुन कंटकों को फ़िर चली l

दूर कर बाधा को हर ,

                 मैं मुस्कुरा चलने लगी l

देखकर जज़्बा मेरा ,

               राहों की विपदा भी डरी l

कुछ कीट सम्मुख आँख मेरे ,

                  यूँ फड़फड़ाने भी लगे l

कुछ दिखा कर भय ,

                मुझे  डराने  भी  लगे l

कुछ लांघ मर्यादा, 

               मेरे सम्मान में दे चोट भी l

कर कपट, छल ,असत्य से, 

               कुछ कीट धमकाने लगे l

पर मेरे आदर्श ने, 

              मुझको सिखाया सीख ये l

थामकर के सत्य का कर, 

              सामना विपदा का कर l

ज़िंदगी की धूप से पर, 

              छाँव की;उम्मीद न कर l

सत्य का कर थाम कर, 

              मैं मुस्कुरा चलने लगी l

देख कर जज़्बा मेरा, 

             राहों की विपदा भी डरी l

राह सीधी थी मग़र, 

              कुछ ठोकरें जमकर लगीं l

सामने पत्थर हटा, 

               चुन कंटकों फ़िर चली l

सीख करके गुनगुनाना, 

               राह में जब मैं चली l



रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर