प्रदेश की योगी सरकार का एक और महत्‍वपूर्ण कदम, नियुक्ति के लिए अभ्यर्थियों को नहीं लगानी होगी जिलों की परिक्रमा

 प्रदेश की योगी सरकार का एक और महत्‍वपूर्ण कदम, नियुक्ति के लिए अभ्यर्थियों को नहीं लगानी होगी जिलों की परिक्रमा



न्यूज़।उत्तर प्रदेश के साढ़े चार हजार से अधिक एडेड माध्यमिक कालेजों में शिक्षकों के रिक्त पदों पर बड़े पैमाने पर चयन हुआ है। प्रवक्ता व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक के पदों पर चयनितों की तादाद करीब 15 हजार है। सभी पद जल्द भरने के लिए हजारों अभ्यर्थियों को जिलों की परिक्रमा लगाने से राहत मिल सकती है। सरकार जिला विद्यालय निरीक्षकों की जगह शिक्षा निदेशक माध्यमिक को यह जिम्मा सौंपने पर मंथन कर रही है।माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र की ओर से अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक कालेजों में प्रवक्ता व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षकों के रिक्त पदों पर चयन हो चुका है। विद्यालयों में रिक्त पदों के सापेक्ष हर जिले को चयनित अभ्यर्थियों का पैनल भेजा गया है, इसमें नियम है कि रिक्तियों की संख्या से अधिकतम 25 प्रतिशत अभ्यर्थी पैनल में शामिल होंगे। इस बार करीब साढ़े तीन हजार अभ्यर्थियों का नाम पैनल में शामिल है, ङ्क्षकतु उन्हें विद्यालय का आवंटित नहीं है। प्रतीक्षारत अभ्यर्थियों को तभी नियुक्ति मिलेगी जब संबंधित विद्यालय में चयनित ज्वाइन न करे तो पैनल से अधिक मेरिट वालों को मौका मिलेगा।भर्ती की आवेदन प्रक्रिया 2020 से चल रही थी, इस बीच अलग-अलग विभागों में कई भर्तियां हुई, उनमें बड़ी संख्या में चयनित अभ्यर्थी दूसरी जगह ज्वाइन कर चुके हैं। इसलिए पद फिर खाली रहने के आसार हैं। वैसे प्रतीक्षारत भी पर्याप्त हैं लेकिन उनकी नियुक्ति में सबसे बड़ी बाधा जिलावार इस आशय का प्रमाणपत्र बना है जिसमें जिला विद्यालय निरीक्षक लिखकर दें कि संबंधित अभ्यर्थी ने उनके यहां ज्वाइन नहीं किया है। इसमें संबंधित विद्यालय व डीआइओएस के रुचि लेने के बाद भी महीनों का वक्त लगना तय है। ज्ञात हो कि पहले से करीब 1000 से अधिक चयनित और प्रतीक्षारत अभ्यर्थी नियुक्ति पाने के लिए भटक रहे हैं।

Popular posts
सदर सीट से प्रमोद द्विवेदी को चुनाव लड़ा सकती हैं भाजपा
चित्र
केशव मौर्या के भाजपा से प्रत्यासी घोषित होते ही समर्थकों ने दागे पटाखे,बांटी मिठाई
चित्र
मकरस्क्रान्ति त्यौहार के शुभ अवसर पर किशनपुर में लगा ऐतिहासिक मेला
चित्र
दारा सिंह चौहान के इस्तीफे से क्या पड़ सकता है सियासत पर बड़ा फर्क
चित्र
कोर्रा कनक किशोरी हत्याकांड में ललौली पुलिस ने किया खुलासा सगा भाई ही निकला हत्यारा।
चित्र