आबूनगर विद्युत पावर हाउस में ईमानदारी हो गई है दूर ऊर्जा मंत्री का पूरी तरह से सपना हो रहा है चकनाचूर

 आबूनगर विद्युत पावर हाउस में ईमानदारी हो गई है दूर ऊर्जा मंत्री का पूरी तरह से सपना हो रहा है चकनाचूर



पावर हाउस के त्रिदेव बन गए हैं डकैत


अधिशासी अभियंता रामसनेही यादव को यदि भ्रष्टाचार की हो जाए जानकारी तो वह कर सकते हैं कठोर कार्यवाही


फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने अपने बड़े बयान में लगातार चेतावनी देते हुए चले आ रहे हैं कि यदि विद्युत विभाग के अधिकारियों अथवा कर्मचारियों द्वारा तथा निविदा कर्मचारियों द्वारा उपभोक्ताओं का शोषण किया गया तो उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने अपने बड़े बयान में चेतावनी के साथ यह भी फरमान जारी करते हुए कहा है कि विद्युत विभाग में निविदा कर्मचारी सबसे ज्यादा शोषण करते हैं। उनके द्वारा दी गई चेतावनी का असर भले ही समूचे उत्तर प्रदेश में पड़ता नजर आ रहा हो किंतु जनपद फतेहपुर के विद्युत वितरण खंड प्रथम के उपखंड कार्यालय के महतत आबू नगर पावर हाउस में अवर अभियंता अभिनव मौर्य के दो कर्मचारियों ने जो सरकार के सपनों को कांच के टुकड़ों की भांति अपनी अवैध वसूली के चक्कर में चकनाचूर कर दिया है। उपरोक्त दोनों निविदा कर्मचारियों का हाजमा इतना दुरुस्त है कि विभाग की सरकारी संपदा को भी हजम कर जाते हैं। बहरहाल कुछ भी हो आबू नगर पावर हाउस में कार्यरत अवर अभियंता के चहेते दोनों निविदा कर्मचारी डकैतों की यदि भ्रष्टाचार की जांच करा ली जाए तो निश्चित तौर पर जांच के दौरान त्रिदेव के खिलाफ भ्रष्टाचार का महा जिन्न सामने निकल कर आ जाएगा। यहां पर यह कहावत पूरी तरह से चरितार्थ हो रही है कि चिराग तले अंधेरा महज पांच कदम की दूरी पर  अधिशासी अभियंता का कार्यालय है और वह भी त्रिदेवों द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार एवं लूट से पूरी तरह से अनभिज्ञ है। गौरतलब है कि यदि त्रिदेवों द्वारा की जा रही उपभोक्ताओं से अवैध वसूली की जानकारी उनको होती तो निश्चित तौर पर वह श्रीदेवो के खिलाफ कठोर  कार्यवाही करने से पीछे नहीं हटते।