जिलाधिकारी बांदा द्वारा मण्डलीय चिकित्सालय, बांदा का किया आकस्मिक निरीक्षण

 जिलाधिकारी बांदा  द्वारा  मण्डलीय चिकित्सालय, बांदा का किया आकस्मिक निरीक्षण 




संवाददाता बाँदा - जिलाधिकारी अनुराग पटेल के द्वारा आपेडियाट्रिक (पीकू) आईसीयू वार्ड-1 व 2 का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान वार्ड-1 में 05 बेड है जिसमें 05 कार्डियफ मॉनिटर एवं 05 वेन्टिलेटर रखे हुये थे जिन्हे जिलाधिकारी द्वारा अपने सामने चलवाया, जो चालू हालात में पाये गये। वार्ड-2 में 06 बेड है जिसमें एच0एफ0एन0सी0-1, वेन्टीलेटर-4 एवं ऑक्सीजन कन्सन्टेटर-1 स्थापित है। मौके पर उपस्थित मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, जिला चिकित्सालय, बांदा द्वारा बताया गया कि पीकू आई0सी0यू0 में कुल-11 बेड, पीकू एच0डी0यू0 वार्ड में 32 बेड एवं पीकू आईसोलेशन वार्ड में 50 शैय्या है तथा कोविड-19 आई0सी0यू0 व्यस्क वार्ड में 10 बेड, ओमिक्रोन आईसोलेशन एच0डी0यू0 वार्ड में 10 बेड एवं 49 बेड़ सामान्य आईसोलेशन वार्ड में स्थापित किये गये है। इस प्रकार एल-2 चिकित्सालय में कुल 150 बेड स्थापित है तथा 23 वेन्टीलेटर, एच0एफ0एन0सी0 01, कार्डियफ मॉनिटर 20, ऑक्सीजन कन्सन्टेटर 17 सहित 44 छोटे ऑक्सीजन सिलेण्डर एवं 06 बड़े जम्बो सिलेण्डर उपलब्ध है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक द्वारा बताया गया कि 150 बेडो में से 68 बेडो में गद्दे नहीं है, गद्दो की मांग हेतु शासन को मांग पत्र भेजा गया है। जिलाधिकारी द्वारा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देशित किया कि तत्काल अधोहस्ताक्षरी की ओर से शासन को पत्राचार करायें।

जिलाधिकारी द्वारा मण्डलीय चिकित्सालय में स्थापित 960 एल0पी0एम0 (लीटर प्रति मिनट) की छमता के ऑक्सीजन प्लांट का निरीक्षण किया गया। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक द्वारा बताया गया कि वर्तमान में प्लांट चालू हालात में है। साथ बताया गया कि ऑक्सीजन प्लांट हेतु विद्युत आपूर्ति के लिये 250 के0वी0ए0 के जनरेटर की मांग की गई थी, परन्तु 160 के0वी0ए0 का जनरेटर स्वीकृत हुआ था, जो प्लांट का लोड नहीं ले पा रहा है। जिलाधिकारी द्वारा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को तत्काल अधोहस्ताक्षरी की ओर से शासन को 250 के0वी0ए0 के जनरेटर हेतु पत्राचार कराने के निर्देश दिये गये।दवा वितरण अनुभाग का भी निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के समय डा0 एस0पी0 त्रिपाठी, चीफ फार्मासिस्ट उपस्थित मिले। जिलाधिकारी द्वारा प्रतिदिन कितने मरीजों को दवा वितरण करने की जानकारी चाही गई, तो मौके पर उपस्थित फार्मासिस्ट द्वारा बताया गया कि प्रतिदिन लगभग 1500 मरीजों को दवा वितरण किया जाता है। 

 जिलाधिकारी द्वारा जिला चिकित्सालय के अन्दर खड़ी एम्बुलेंस 102 यू0पी032 ई0जी0 0628 का निरीक्षण किया गया। एम्बुलेंस ई0एम0टी0 प्रीति देवी उपस्थित मिली। जिलाधिकारी द्वारा ई0एम0टी0 से ऑक्सीजन सिलेण्डर चलाने को कहा तो ई0एम0टी0 द्वारा बताया गया कि उसको ऑक्सीजन सिलेण्डर चलाना नहीं आता है। निरीक्षण के समय फर्स्ट एड बोक्स खाली पाया गया तथा एम्बुलेंस में आवश्यक उपकरण यथा-डी0एन0एस0, आर0एल0, एन0एस0, थर्मल स्कैनर, पल्सऑक्सीमीटर आदि नहीं पाया गया। जिलाधिकारी द्वारा मुख्य चिकित्साधिकारी/मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को निर्देशित किया कि तत्काल सुयोग्य कर्मचारियों को एम्बुलेंस सेवा में लगाये तथा एम्बुलेंस में मानक के अनुरूप आवश्यक उपकरण एवं औषधियां आदि उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

Popular posts
सदर सीट से प्रमोद द्विवेदी को चुनाव लड़ा सकती हैं भाजपा
चित्र
केशव मौर्या के भाजपा से प्रत्यासी घोषित होते ही समर्थकों ने दागे पटाखे,बांटी मिठाई
चित्र
मकरस्क्रान्ति त्यौहार के शुभ अवसर पर किशनपुर में लगा ऐतिहासिक मेला
चित्र
दारा सिंह चौहान के इस्तीफे से क्या पड़ सकता है सियासत पर बड़ा फर्क
चित्र
कोर्रा कनक किशोरी हत्याकांड में ललौली पुलिस ने किया खुलासा सगा भाई ही निकला हत्यारा।
चित्र