हैं शब्द मेरे भाव भरे,

 "हमदर्द"




हैं शब्द मेरे भाव भरे, 


             क्या गहराई तुम समझोगे  ? 

ह्रदय की गह्वरता में से, 

               क्या पीर के मोती चुन लोगे? 

मेरे नयनों की विह्वलता, 

               क्या दूर नयन से कर दोगे ? 

मुस्कान वेदना पीर ह्रदय, 

               क्या अंतर्मन को समझोगे  ?

जहाँ सत्य है सराबोर, 

            क्या भाव पल्लवित कर दोगे? 

जीवन के अंतिम क्षण तक, 

               क्या रिक्त मेरा भर दोगे ? 

उस अनंत की सीमा में, 

                मेंरा अपना कोना होगा l

इस असीम धरती में मेंरा,

                 इक पावन उपवन होगा l                            

विह्वलता से भरा ये मन है, 

              क्या कोई फूल खिला दोगे  ?

भावों से है सराबोर मन, 

           क्या मन का कवच बना दोगे  ?

बड़ी टीस उठती है ह्रदय में, 

           क्या हिय की टीस मिटा दोगे  ?

हर काली रातों में तुम, 

              बन दीप मुझे चमका दोगे  ? 





रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फतेहपुर

Popular posts
न्यायालय के आदेश पर मुनादी पिटवाकर ललौली थानाध्यक्ष ने आरोपी के घर कुर्की की नोटिस किया चस्पा
चित्र
खेलकूद प्रतियोगिता में रामा डिफेंस एकेडमी ने हासिल किए सबसे ज्यादा पदक।
चित्र
बावनी इमली में लगे ठाकुर जोधा सिंह अटैया के चित्र में अपमानजनक हरकत करने वाले के खिलाफ मुकदमा लिखने के लिए अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने दिया प्रार्थना पत्र
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से फिर हुई है किसान की मौत
चित्र
नर कंकाल ने खोलें दोहरे हत्या का राज, दो गिरफ्तार
चित्र