यकीनन दर्द मिलता जब,

 "दृढ़ता"



यकीनन दर्द मिलता जब, 


                   वहीं परिपूर्णता मिलती l


हताशा में पड़े मन को, 

                  कोई शक्ति भी है मिलती l


ह्रदय संवेदना मिलती, 

                    गह्वरता भी है मिलती l


 शिकायतों के भी मध्य, 

                  मधुर मुस्कान भी मिलती l


ह्रदय के तार झंकृत हो, 

                  अभौतिकता में जुड़ते हैं l


कहाँनी को समेटे मन, 

                   गहनता में भी गढ़ते हैं l


कई दृष्टि लिए दृष्टि, 

                   बहुत कुछ देख लेते हैं l


निगाहों ही निगाहों में, 

                   बहुत कुछ सार कहते हैं l


मधुर मुस्कान के पीछे, 

                   कई  दर्द ए बयाँ होते  l


इन्हीं प्रतिकूलताओं से, 

                   मनःस्थिति भी दृढ़ होती l


यकीनन दर्द मिलता जब, 

                    वहीं परिपूर्णता मिलती l





रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फ़तेहपुर