शिव तुम्हीं हो पारब्रंह,

 "मेरे शिव"



शिव तुम्हीं हो पारब्रंह, 

हो प्रभु तुम अपारब्रंह l


          शिव तुम्हारे साथ ही हम, 

          पर तुम्हारे बिन नहीं हम l


शिव तुम्हीं हर सांस में हो, 

तुम हमारे आस में हो l


             शिव तुम्हीं हर भावना में, 

              शिव तुम्हीं मम् कामना में l


जीत शिव तुमसे है मेरी, 

हार भी तुमसे है मेरी l


                साथ मेरे तुम अगर हो, 

                 चाहना कुछ है न मेरी l


तुम मेरे परमात्मा हो, 

तुम ही मेरी आत्मा हो l


                 तुम मेरे संघर्ष में हो, 

                  तुम मेरे आराम में हो l


तुम ही जीवन धूप हो मम्, 

शिव तुम ही छाया भी हो l


                 तुम अधर मुस्कान में हो, 

                  तुम नयन की धार में हो l


जीवन की नैया हो तुम्हीं, 

पतवार भी तुम हो प्रभु! 


                है पड़ी मझधार नैया, 

                 तुम ही मेरे हो खेवैया l


मान मेरा तुम प्रभु  ! 

तुम मेरे अभिमान हो l


                  तुम चरण स्थान देना, 

                   है मेरी यह  प्रार्थना l

                   

 

                 




रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फ़तेहपुर