होली के रंग"

 "होली के रंग"





तुम रंगों के बौछार पिया, 

मैं रंगों की हूँ पिचकारी l


तुमसे जन्मों का  नाता है, 

आँगन की तेरे हूँ फुलवारी l


मन डोर तुम्हारे संग है बंधी, 

ह्रदय की तुम्हारी अधिष्ठात्री l


रिश्ता सांसारिकता का नहीं, 

रिश्ता है ये अनमोल पिया l


तुम रंगों के बौछार पिया, 

मैं रंगों की हूँ  पिचकारी l


तुमसे जन्मों का  नात्ता है, 

आंगन की तेरे हूँ फुलवारी l


मन मंदिर के हो प्रतिध्वनि तुम, 

मैं  मंदिर  की  घंटिका  पिया l


भक्ति  रस  में  मैं   सराबोर, 

तुम भी सम हो प्रहलाद पिया l


तुम रंगों के बौछार पिया, 

मैं रंगों की हूँ पिचकारी l


तुमसे जन्मों का  नाता है, 

आँगन की तेरे हूँ फुलवारी l


यह आवागमन  निरंतर है, 

तुम मुक्ति प्रदाता मेरे पिया l


मैं चली हूँ बनकर के टोली, 

तुम होली के हो फ़ाग पिया l


तुम रंगों के बौछार पिया, 

मैं रंगों की हूँ पिचकारी l


तुमसे जन्मों का  नाता है, 

आँगन की तेरे हूँ फुलवारी l



रश्मि पाण्डेय

बिंदकी ,फ़तेहपुर

Popular posts
खेत जा रही देवरानी जेठानी को दबंग परिजनों ने पीटकर किया लहूलुहान
चित्र
ओम घाट में डूबती महिला को पीएसी जवान ने बचाया
चित्र
नगरी निकाय सामान्य निर्वाचन 2022 सहित तैयार कर आने जाने वाली मतदाता सूची के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से पेट्रोल पंप में हुआ भारी नुकसान
चित्र
नवागंतुक मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विकास भवन के कार्यालय में जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय, सहकारिता कार्यालय, आरईएस, जल शक्ति कार्यालय आदि कार्यालयों का किया औचक निरीक्षण
चित्र