कभी झरने की झर झर में,

 "मेरी दुनिया"



कभी झरने की झर झर में, 


           कभी संगीत में मिलकर। 

कभी कोयल की कू- कू में, 

          कभी पतझर के संग मिलकर। 

कभी धरती के सम बनकर, 

           कभी अम्बर के सम होकर l

कभी पाषाण सम होकर, 

           कभी कोमल भी अति होकर l

तुम्हारे साथ चलती हूँ, 

            तुम्हारी ढाल बनती हूँ l

बड़े ही लाज, हया के संग, 

             तुम्हारी शान बनती हूँ l

तुम्हें परिपूर्णता देती, 

             तुम्हारी राह भी बनती l

तुमसे चाहती इतना, 

             कभी सम्मान न हरना l

कभी विपरीत स्थित में, 

             हमें तन्हां भी न करना l

हमें ह्रदय बना कर तुम, 

             बना कविता हमें देना l

मैं नारी हूँ नहीं अबला, 

             बहुत सहने की भी क्षमता l

कभी ह्रदय दुखाना न, 

             किये धारण हूँ कोमलता l

हमेशा साथ रहना तुम, 

             न जाना दूर कटु होकर l

बनाना है कुटुंब हमको, 

             रहना साथ में मिलकर l




रश्मि पाण्डेय

बिंदकी, फ़तेहपुर

Popular posts
चेहरे पर मुहासे के दाग होने की वजह से 8 जगहों से टूटा रिश्ता हीनभावना से ग्रसित,युवती ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
चित्र
लगभग 5 करोड़ रुपए की अष्टधातु की मूर्ति के साथ एक आरोपी गिरफ्तार
चित्र
एंटी करप्शन टीम ने रिश्वत लेते बाबू को रंगेहाथ पकड़ा, एरियर निकालने के लिए मांगे थे 14 हज़ार रुपये
चित्र
उत्तर प्रदेश में मुफ्त राशन वितरण व्यवस्था में बदलाव, अब राशनकार्ड धारकों को चावल ज्यादा और गेहूं कम मिलेगा
चित्र
अतिक्रमणकारियों पर होगी सख्त कार्रवाई--- एसडीएम बिंदकी
चित्र