सच कहा गया है कि अगर कुछ करने का जुनून है तो कठिनाइयाँ सीढ़ियों का काम करती है

 सच कहा गया है कि अगर कुछ करने का जुनून है तो कठिनाइयाँ सीढ़ियों का काम करती है



रिपोर्ट - श्रीकांत श्रीवास्तव 


 बांदा - जिले के छोटे से गाँव अनथुआ से अभाव को मात देते हुए 23 वर्ष के छात्र धनन्जय सिंह कुशवाहा पुत्र श्री श्याम बिहारी कुशवाहा, रेलवे क्वार्टर अनथुआ ने फिर से एक नया कीर्तिमान रचा दिया| धनन्जय NIT कुरुक्षेत्र से एम0 टेक0 कर रहे थे और वहीं से भारत सरकार की नवरत्न उपक्रम "भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड" मे केन्द्रीय अनुसंधान प्रयोगशाला में सदस्य (अनुसंधान स्टाफ) के लिए चयन हुआ जो पूरे बांदा जिले के लिए गर्व की बात है| जब से यह खुशखबरी मालुम पडी़ है परिवार व पूरे गाँव में खुशी की लहर है| धनन्जय के पिता एक छोटे किसान और बमुश्किल ही घर का गुजारा चलता था| कई बार बचपन में गाँव से अतर्रा पैदल 7 कि0मी0 भी स्कूल जाना पडता था| आज इतनी बड़ी सफलता मिलने के लिए श्रेय बडे़ भाई हेम सिंह, अजय सिंह कुशवाहा व माता-पिता को दिया है|

धनन्जय ने बिना किसी ट्यूशन कोचिंग के हाइस्कूल में 89% , इण्टरमीडिएट में 93% हिन्दू इन्टर कालेज अतर्रा से किया, इसके बाद जे ई ई मेन्स में टाप रैंक पा कर IIIT मनि पुर से बी0 टेक0 कम्प्यूटर साइंस से किया| 2020 में ही GATE में अच्छी रैंक ले कर NIT कुरुक्षेत्र में एम0 टेक0 मे एडमिशन लिया| धनन्जय ने पूरी शिक्षा अपनी कड़ी मेहनत व बड़ी सोंच के कारण किया|