परचम"

 "परचम"





 वीर हैं सच्चे ; दुनिया के, 

              हम झूठ भगाने आये हैं l

सगरी दुनिया में परचम को, 

            फहराने सच का आये हैं l

तुम दीन हीन समझो न हमें, 

               हम दीप ज्ञान का लाये हैं l

सगरी दुनिया में परचम को, 

                फहराने सच का आये हैं l

तुम नाम कमा लो कितना भी, 

                  पर हार हमीं से पाओगे l

अंतस में छुपा झूठ को तुम, 

             जो कपट घोलते हो विष का l

दूर कपट के विष को हम, 

                अमरत्व दिलाने आये हैं l

 सगरी दुनिया में परचम को, 

                  फहराने जग में आये हैं l

कितनी भी कोशिश कर लेना, 

                 पर नहीं मात दे पाओगे l

झूठ के दामन में लिपटे, 

                 छल कपट भगाने आये हैं l

लेकर के रूप अटल अपना, 

                  हम धरा पे रहने आये हैं l

सगरी दुनिया में परचम को, 

                   फहराने सच का आये हैं l

चल कर चाल छद्म का तुम, 

                   कभी हरा न पाओगे l

हम दीप ज्ञान का लेकरके, 

                   अज्ञान भगाने आये हैं l

सागरी दुनिया में परचम को, 

                   फहराने सच का आये हैं l

हम देख चुके कायरता को, 

                जो ढाल तुम्हारे जीवन की l

हमने समझा हर क्षुद्र भाव, 

                पहचान तुम्हारे जीवन की l

तूफा़न में भी डट कर के

                हम दीप जलाने आये हैं l

सगरी दुनिया में परचम को, 

                   फहराने सच का आये हैं l





रश्मि पाण्डेय

बिंदकी फ़तेहपुर