महंगाई से जनता हुई परेशान, रसोई से हरी सब्जी हुई गायब, नीबू को लगी नज़र,

 महंगाई से जनता हुई परेशान,  रसोई से हरी सब्जी हुई गायब, नीबू को लगी नज़र,



रिपोर्ट - श्रीकान्त श्रीवास्तव 


बांदा -  जिस तरह से पेट्रोल डीजल के लगातार दाम बढ़ रहे हैं उसी के कारण सभी चीजों के दाम बढ़ने शुरू हो गए हैं। बात करे हम सब्जियों के बारे में तो हरी सब्जियां इतनी महंगी हो गई है कि लोगों कि रसोई से सब्जियां गायब हो गई है। दुकानों मे  सन्नाटा पसरा हुआ है। दुकानदार ग्राहकों का इंतजार करते नजर आ रहे हैं। लेकिन दुकान पर ग्राहक नहीं आ रहे हैं। 


आपको बता दें की बढ़ती महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है लोगों को घर के खर्चे चलाने में अब काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। लोगों की रसोई से सब्जी गायब हो गई है। सलाद के बारे में तो सोचना ही गुनाह हो गया है। नींबू की बात करें तो नींबू को मानो नजर लग गई है। एक नींबू ₹10 का बिक रहा है हरी सब्जियों के दाम प्रति किलो लगभग 70 से ₹80 किलो मिल रही है। वही दुकानदारों की मानें तो उनका कहना है, कि जिस हिसाब से महंगाई बढ़ रही है। सब्जी के खरीदार कम हो गए हैं।  कुछ लोगों ने सरकार  पर भी  आरोप लगाए हैं उनका आरोप है कि सरकार के द्वारा ही महंगाई बढ़ाई जा रही है सरकार चाहे तो महंगाई कंट्रोल कर सकती है। पेट्रोल डीजल के बढ़ते दाम पर  सरकार कंट्रोल कर सकती है। जीएसटी के दायरे में लाकर के लेकिन इस पर खाली बातें की जा रही है।  गरीब जनता, गरीब व्यापारियों, मजदूरों, किसानों, के बारे में सरकार ध्यान नहीं दे रही है। लोगों की मांग है कि सरकार को बढ़ती महंगाई से निजात दिलाना चाहिए और पेट्रोल डीजल के दामो मे रोक लगाना चाहिए क्योंकि पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों के कारण ही ह् जरुरत कि सामग्री महंगी होती जा रही है।