मुख्यमंत्री के निर्देश पर तेजतर्रार जिला अधिकारी ने भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों पर चाबुक चलाना कर दिया है शुरू

 मुख्यमंत्री के निर्देश पर तेजतर्रार जिला अधिकारी ने भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों पर चाबुक चलाना कर दिया है शुरू



शासन में जिला अधिकारी की शिकायत पर अधिशासी अभियंता के ऊपर गिरी है स्थानांतरण की गाज


स्थानांतरण रुकवाने के लिए अधिशासी अभियंता कर रहे हैं गणेश परिक्रमा


अधिशासी अभियंता का यदि स्थानांतरण रुक जाता है तो जनपद के इतिहास में यह महा इतिहास बन जाएगा


फतेहपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए सभी जनपदों के जिला अधिकारियों को कड़ी चेतावनी के साथ-साथ आगाह करते हुए चले आ रहे हैं कि भ्रष्टाचार किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मुख्यमंत्री के निर्देशों का अक्षरसह पालन करते हुए जनपद की तेज तर्रार एवं इमानदार जिलाधिकारी श्रीमती अपूर्वा दुबे ने सरकारी विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों को सबक सिखाने का बीड़ा उठा रखा है। जिला अधिकारी ने विद्युत विभाग खंड प्रथम के अधिशासी अभियंता रामसनेही यादव की मिल रही भ्रष्टाचार एवं कार्य के प्रति लापरवाही बरतने तथा बिना उनको जानकारी दिए गायब रहने के मामले को गंभीरता से लेते हुए शासन में शिकायत दर्ज कराई थी। जिला अधिकारी के द्वारा की गई शिकायत प्रशासन ने अधिशासी अभियंता को विद्युत वितरण खंड प्रथम से हटाकर प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता के कार्यालय से संबद्ध कर दिया है किंतु उसके बावजूद सपा मानसिकता से ग्रसित अधिशासी अभियंता रामसनेही यादव ने चार्ज छोड़ने के बजाय सत्ता पक्ष के गलियारे में स्थानांतरण रुकवाने की गणेश परिक्रमा करने में जुटे हुए हैं। मालूम रहे कि सपा मानसिकता से ग्रसित अधिशासी अभियंता रामसनेही यादव इसके पूर्व भाजपा की पिछली सरकार के कार्यकाल में प्रतापगढ़ जनपद में बतौर अधिशासी अभियंता कार्यरत थे और एक भाजपा के कद्दावर नेता से बदसलूकी करने पर भाजपा नेता की शिकायत पर शासन ने अधिशासी अभियंता के खिलाफ कार्यवाही करते हुए प्रयागराज मंडल के मुख्य अभियंता कार्यालय से संबद्ध कर दिया था। प्रयागराज मंडल के तत्कालीन सपा मानसिकता से ग्रसित सजातीय मुख्य अभियंता ने नौकरी से अवकाश प्राप्त होने से चंद दिनों पहले रामसनेही यादव का इस जनपद के विद्युत वितरण खंड प्रथम में बतौर अधिशासी अभियंता स्थानांतरण कर दिया था। मालूम रहे कि रामसनेही यादव के पहले विद्युत वितरण खंड प्रथम में अधिशासी अभियंता रहे प्रभाकर पांडे का शासन ने प्रमोशन करते हुए गैर जनपद स्थानांतरण कर दिया था और उनके जाते ही रामसनेही यादव ने बतौर अधिशासी अभियंता पदभार ग्रहण कर लिया था। सपा मानसिकता से ग्रसित अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड प्रथम की भ्रष्ट कार्यशैली की शिकायत लोगों ने केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति से भी की थी और केंद्रीय मंत्री ने आश्वासन देते हुए कहा था कि वह इस बात की शिकायत सीधे मुख्यमंत्री से करेंगी। स्थानांतरण रुकवाने के लिए जिले से लेकर प्रदेश के सत्तापक्ष के नेताओं की गणेश परिक्रमा करने में तुले हुए अधिशासी अभियंता यदि अपने मंसूबों में कामयाब हो जाते हैं तो जनपद के इतिहास में यह पहला बड़ा इतिहास बनेगा कि किसी जिला अधिकारी के द्वारा की गई शिकायत पर शासन द्वारा हटाए गए किसी अधिकारी की वापसी उसी जनपद में और उसी सीट पर हो जाने पर चौंकाने वाली बात साबित होगी। हांलाकि ऐसा इस जनपद में इसके पूर्व कभी नहीं हुआ है।