विश्व तंबाकू निषेध दिवस के परिप्रेक्ष्य में ज्योति बाबा का भारत की जनता से आवाहन

 विश्व तंबाकू निषेध दिवस के परिप्रेक्ष्य में ज्योति बाबा का भारत की जनता से आवाहन




तंबाकू उत्पादों का सेवन बर्बाद करे यौवन...ज्योति बाबा


 तंबाकू से लाड़ करेगा सेहत से खिलवाड़...ज्योति बाबा


किसी भी रूप में मातृशक्ति का तंबाकू सेवन नवजात शिशु को बनाता बीमारियों का घर...ज्योति बाबा 


तंबाकू को जिसने गले लगाया मौत को उसने पास बुलाया...ज्योति बाबा 


धूम्रपान बना युवा असमय मौत का कारण...ज्योति बाबा


 तंबाकू से नाता तोड़ो स्वस्थ जीवन से नाता जोड़ो...ज्योति बाबा 


कानपुर l जहां एक और सिगरेट के उत्पादन हेतु लगभग दुनिया में 60 करोड़ पेड़ काट दिए जाते हैं तथा 22 अरब लीटर पानी बर्बाद कर दिया जाता है वहीं दूसरी ओर धूम्रपान से 84 करोड़ टन कार्बन डाइऑक्साइड उत्पन्न होती है तंबाकू खाने वाले बार-बार जगह-जगह थूकते हैं जिससे कोरोना जैसे अन्य वायरस का प्रसार तीव्र हो जाता है और अकेले रेलवे को प्रतिवर्ष ₹12500 पान मसाले तंबाकू की पीक सफाई में खर्च करने पड़ते हैं जाहिर है तंबाकू से ना सिर्फ कैंसर के रोगी बहुतायत में मिल रहे हैं बल्कि उनकी उनका महंगा इलाज सबके बस की बात नहीं रह गई है इसीलिए तंबाकू को जीवन से निकालकर योग में जीवन की राह अपनाएं और दिखाएं उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल का के तहत विश्व तंबाकू निषेध दिवस के परिप्रेक्ष्य में आयोजित वेबीनार शीर्षक क्या भारत के नौजवानों को तंबाकू मुक्त बनाना जरूरी है पर अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख व नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के नेशनल ब्रांड एंबेसडर योग गुरु ज्योति बाबा ने कही,ज्योति बाबा ने आगे कहा कि गांवों में महिलाओं के बीच तंबाकू निकोटिन युक्त गुल मंजन के प्रयोग के साथ बीड़ी का प्रचलन काफी बढ़ चुका है जबकि गांवों में हरियाली घटने व अस्पतालों के ना के बराबर होने के चलते उनका इलाज कठिनतम हो चुका है ज्योति बाबा ने बताया कि इसीलिए वर्ष 2022 के विश्व तंबाकू निषेध दिवस की थीम है पर्यावरण की सुरक्षा करें क्योंकि तंबाकू के बढ़ते प्रकोप से जल वायु और भू प्रदूषण बढ़ रहा है नदी नाले चोक हो रहे हैं और बच्चों के जीवन पर जन्म से ही रोगों का खतरा मंडरा रहा है  मोहनलालगंज के विधायक अमरीश रावत ने कहा कि तंबाकू के धुएं से 500 हानिकारक गैसें एवं 7000 अन्य रासायनिक पदार्थ निकलते हैं इसीलिए सिख धर्म गुरु गोविंद सिंह जी का घोड़ा तंबाकू के खेत भी नहीं पार करता था आम्रपाली उन्नाव के डायरेक्टर डॉक्टर श्याम सिंह ने कहा कि बीड़ी और सिगरेट का धुआं उसको पीने वाले के फेफड़ों में केवल 30 फ़ीसदी जाता है जबकि बाकी 70 फ़ीसदी सेकंड हैंड स्मोकिंग के चलते ना पीने वालों को सीधे रोगी बनाता है बछरावां रायबरेली से पंकज रावत ने कहा कि सम्मानित सरकार का यह कहना कि तंबाकू उत्पादों से हमें राजस्व मिलता है तो 2015-16 के आंकड़ों के अनुसार तंबाकू उत्पादों से ₹35600 करोड़ अर्जित हुए थे जबकि तंबाकू से उत्पन्न बीमारियों के इलाज में 104500 करोड़ रुपया खर्च किए गए लखनऊ से मोनू रावत ने कहा कि वर्तमान में अधिकांश बीमारियों की वजह तंबाकू है इसके कारण 25 तरह की बीमारियां और लगभग 40 प्रकार का कैंसर हो सकता है इसमें मुख् फेफड़े प्रोस्टेट और पेट का कैंसर प्रमुख है अंत में ज्योति बाबा ने सभी को ऑनलाइन तंबाकू मुक्त जीवन यापन करने का संकल्प कराने के साथ उपाय भी बताएं अन्य प्रमुख फतेहपुर से अंजू सिंह आगरा से भोला जैन झांसी से विनोद कुमार बहराइच से अनुराग श्रीवास्तव ऋषभ श्रीवास्तव इत्यादि थे


हरदीप सिंह सहगल 

मीडिया प्रभारी 

सोसायटी योग ज्योति इंडिया