मित्रता समानता की द्योतक:आचार्य रामजी*

 *मित्रता समानता की द्योतक:आचार्य रामजी*



कृष्ण सुदामा प्रसंग सुन भावुक हुए श्रोता


भागवत कथा के सातवे दिन खेली गई फूलो की होली


बिदकी फतेहपुर।मलवा विकास खंड के पहुर गांव में चल रही श्रीमदभागवत कथा के सातवे दिवस आचार्य रामजी पांडेय ने सुदामा चरित्र,परीक्षित मोक्ष के प्रसंग की विस्तृत कथा सुनाई।राधा कृष्ण के संग फूलो की होली गई।आचार्य ने कहा कि सुदामा चरित अत्यन्त स्वाभाविक,हृदय ग्राही सरल एवं भावपूर्ण कथा है।मित्रता में न कोई ऊंच होता है न कोई नीचा,न कोई एश्वर्यशाली होता है और न ही दरिद्र।मित्रता समानता की द्योतक है।जिससे विचार,व्यवहार मेल खाए उसी से मित्रता होती है।कथा सुन श्रोता भावविभोर हो गए।आयोजको ने बताया सोमवार को पूर्णाहुति के साथ समापन होगा।

नीरज दुबे, धीरज दुबे,आलोक गौड़, अभय मिश्रा,लवकुश सिंह,गणेश दीक्षित,अविनाश बाजपेई,भोला द्विवेदी,अनुपम मिश्रा रहे।