सेहत के साथ वातावरण को प्रदूषित कर रही तंबाकू... ज्योति बाबा

 सेहत के साथ वातावरण को प्रदूषित कर रही तंबाकू... ज्योति बाबा 



विश्व भर में होने वाली 50 फ़ीसदी मौतों का कारण बना धूम्रपान...ज्योति बाबा 


विश्व तंबाकू निषेध दिवस की थीम आओ पर्यावरण की रक्षा करें..ज्योति बाबा 


धूम्रपान छोड़ते ही क्षतिग्रस्त अंगों में होता स्पीडी सुधार... ज्योति बाबा 


कानपुर l देश में तंबाकू उत्पादों के सेवनकर्ता केवल 31 मई विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर नशा न करें तो इतने रुपयों से हम पांच लाख बच्चों को कुपोषण मुक्त कर सकते हैं कोरोना के नए जानलेवा वेरिएंट्स का शिकार नहीं बनना चाहते हैं तो तंबाकू को अभी और आज छोड़ें और परेशानी होने पर निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरेपी के साथ योग प्राणायाम की सहायता लें क्योंकि अकेले धूम्रपान के चलते 60 करोड़ सीनियर पेड़ों को काट दिया जाता है जिसके चलते वातावरण में ना सिर्फ हानिकारक कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ती है बल्कि अन्य जहरीली गैसे भी अत्याधिक हो जाती हैं उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के तहत विश्व तंबाकू निषेध दिवस के परिप्रेक्ष्य में कानपुर गुप्तार घाट में आयोजित तंबाकू मुक्त भारत के लिए गंगा अर्चना कार्यक्रम में अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख नशा मुक्त समाज आंदोलन अभियान कौशल के नेशनल ब्रांड एंबेसडर योग गुरु ज्योति बाबा ने कही,ज्योति बाबा ने कहा कि सबसे दुखद पहलू यह है कि जहां पहले 18 वर्ष पूर्ण होने के बाद तंबाकू खाना शुरू किया जाता था वही अब सामाजिक संस्कारों और रीति-रिवाजों में हुक्काबार व नशे की महफिलों के कारण सबसे ज्यादा बच्चों में स्वीकारोक्ति बन रही है उन्हें लगने लगा है कि यह गलत नहीं है इसीलिए अगले 10 वर्षों में मधुमेह दिल दमा व टीवी के साथ कैंसर रोगी बड़ी संख्या में पैदा हो जाएंगे और वातावरण में जहरीली गैसों के प्रभाव के साथ प्रदूषित जल एवं भूमि उसको बड़ा विस्तार देने में अहम भूमिका निभाएगी तब शायद ही कोई दवा कारगर रह जाएगी ज्योति बाबा ने आगे कहा कि इसीलिए भारत के बचपन भारत के भविष्य को बचाने के लिए आज और अभी से युद्ध स्तर पर प्रयास कर स्वस्थ माहौल बनाने में हर भारतीय महती भूमिका निभाए क्योंकि नशे से फैले नकारात्मक माहौल को पॉजिटिव बनाकर आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में हम बचपन को कुरीतियों से आजाद करने की एक बड़ी जंग का आगाज कर सकते हैं राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अंजू सिंह कानपुर समन्वयक दीप अरोड़ा ने कहा कि याद रखें नशा बढ़ेगा तो मां गंगा समेत देश की अन्य नदियों को हम प्रदूषण मुक्त नहीं कर पाएंगे क्योंकि जब हम नशे के कारण आंतरिक प्रदूषित होंगे तब बाहय प्रदूषण को कैसे दूर कर पाएंगे अंत में गंगा अर्चना के बाद सभी को तंबाकू मुक्त भारत के लिए काम करने का संकल्प गंगा में ज्योति बाबा ने दिलाया गया गंगा अर्चना में प्रमुख सहयोगी किशोर,नीलेश तलाटी पंकज रावत राजेंद्र लहरी रोहित कुमार भोला जैन इत्यादि थे l