क्रयशुदा जमीन से जबरन चक मार्ग निकालने का आरोप

 क्रयशुदा जमीन से जबरन चक मार्ग निकालने का आरोप


 न्यायालय में मामला  विचाराधीन होने के बावजूद ग्राम प्रधान ने लगवाया खड़ंजा


फतेहपुर। ललौली थाना क्षेत्र के उमरकोला खुरमा नगर गांव निवासी रामचरण पुत्र चंद्र भूषण ने जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देते हुए बताया कि गांव में आराजी नंबर 732, 6 बिस्वा ज़मीन का बैनामा 17 जनवरी 1987 को कराया था। बताया कि उक्त जमीन का वह दाखिल व काबिज़ भी है। पीड़ित ने बताया कि उक्त जमीन में गांव के ही राम सिंह, जय सिंह, शिव सिंह, राजकुमार, जयकरण पुत्रगण शिव नारायण सिंह, राजेश व दिनेश पुत्रगण राज नारायण, आशीष उर्फ़ पप्पू पुत्र किशन पाल ने ग्राम प्रधान से साठ-गांठ करके उसकी खरीदी गई जमीन के हिस्से से जबरिया चक मार्ग निकाल रहे हैं। पीड़ित ने बताया कि उक्त मामले के संबंध में न्यायालय में स्थाई निषेधाज्ञा का एक सिविल जज जूनियर डिविजन के न्यायालय में वाद संख्या 275 सन 2022 राम चरण बनाम राम सिंह दाखिल किया है। उसने बताया कि न्यायालय में मामला विचाराधीन होने के बावजूद भी ग्राम प्रधान विरोधियों के इशारे पर उसकी खरीदी गई आराजी से चक मार्ग निकालने में आमादा हैं, जबकि चक मार्ग में आशीष उर्फ पप्पू अपनी अनाधिकृत दीवार खड़ी कर अतिक्रमण कर रखा है। जिसकी वजह से उक्त लोगो से मिलीभगत कर ग्राम प्रधान उसकी आराजी से चक मार्ग निकलवा रहे हैं। उन्होंने जिलाधिकारी से पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराते हुए दोषी लोगों पर कानूनी कार्रवाई कर उसकी खरीदी गई जमीन की सुरक्षा करते हुए लगाए गए खरंजा को हटाए जाने की गुहार लगाई है। पीड़ित ने जिलाधिकारी को यह भी बताया कि वर्ष 2012 में भी उक्त लोगों ने तत्कालीन ग्राम प्रधान से सांठगांठ करके खरंजा लगवा दिया था, जिसकी शिकायत उसने तत्कालीन उपजिलाधिकारी बिन्दकी से की थी, जिस पर तत्कालीन उपजिलाधिकारी ने मामले की निष्पक्ष जांच कराने के बाद जमीन में कराए गए खरंजा निर्माण को उखड़वा दिया था। पीड़ित ने पूरे प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराने हेतु डीएम से न्याय की गुहार लगाई है।