गंगा में पानी बढ़ने से काशी के घाट डूबे तो आरती की जगह बदली गई, तटवर्ती इलाकों में दहशत

 गंगा में पानी बढ़ने से काशी के घाट डूबे तो आरती की जगह बदली गई, तटवर्ती इलाकों में दहशत      



न्यूज। पहाड़ों पर हो रही बरसात से वाराणसी में गंगा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। गंगा की उफनाई लहरों ने घाटों को अपने आगोश में ले लिया है। सभी 84 घाटों का आपसी संपर्क टूट चुका है। मंगलवार शाम से दशाश्वमेध समेत विभिन्न घाटों पर होने वाली आरती का स्थल बदल चुका है। गंगा द्वार से काशी विश्वनाथ धाम में प्रवेश  बंद हो चुका है।बढ़ते जलस्तर के कारण तटवर्ती इलाके के लोगों की धड़कनें बढ़ गई हैं। गंगा की सहायक नदी वरुणा में पलट प्रवाह का खतरा बढ़ गया है। बिन बारिश ही गंगा में हो रहे तेज बढ़ाव को पहाड़ी और चंबल इलाके में हुई बारिश का नतीजा बताया जा रहा है।गंगा में बढ़ते जलस्तर के कारण दशाश्वमेध घाट के सामने वाले रेतों में कटान बहुत तेजी से जारी है। फिलहाल, यहां तीन-चौथाई रेत गंगा में बह चुके हैं। वहीं अस्सी घाट के सामने वाले रेत अब नजर नहीं आ रहे। बाढ़ के पानी में जलकुंभी बहकर आ रही है। इससे घाट किनारे जलकुंभी जमा होने से स्नान करने पहुंचे श्रद्धालुओं को परेशानी हो रही है।

Popular posts
खेत जा रही देवरानी जेठानी को दबंग परिजनों ने पीटकर किया लहूलुहान
चित्र
ओम घाट में डूबती महिला को पीएसी जवान ने बचाया
चित्र
नगरी निकाय सामान्य निर्वाचन 2022 सहित तैयार कर आने जाने वाली मतदाता सूची के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से पेट्रोल पंप में हुआ भारी नुकसान
चित्र
नवागंतुक मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विकास भवन के कार्यालय में जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय, सहकारिता कार्यालय, आरईएस, जल शक्ति कार्यालय आदि कार्यालयों का किया औचक निरीक्षण
चित्र