बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के स्वयंसेवकों ने 28वीं बार खून से लिखा खत

 बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के स्वयंसेवकों ने 28वीं बार खून से लिखा खत 



खून से खत लिखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी जन्मदिन की बधाई


बुंदेलखंड तो ले के रहेंगे जैसे देंगे वैसे लेंगे -  प्रवीण पाण्डेय 


खागा /फतेहपुर। 

बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाने की मांग को लेकर बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के केंद्रीय अध्यक्ष प्रवीण पाण्डेय , स्वयंसेवकों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खून से खत लिखकर बधाई दी है।

इस दौरान प्रवीण पाण्डेय ने कहा, "भाजपा तो हमेशा से छोटे राज्यों की पक्षधर रही है. अगर ऐसा न होता तो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एकसाथ तीन नए राज्य न बनाते. बुंदेलखंड को बार-बार छला गया है. यहां की भाषा, संस्कृति और ऐतिहासिक विरासतों का लगातार गला घोंटा जा रहा है, इसलिए बुंदेलखंड को अलग राज्य बनाया जाना चाहिए. 

उन्होंने कहा, "बुंदेलखंड को सिर्फ खनन के नाम पर लूटा जा रहा है. अब इसे हम और बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं. आप भी बुंदेलों की भावनाओं का सम्मान करें और जितनी जल्दी हो, बुंदेलखंड राज्य की घोषणा कर दें." उन्होंने कहा, "हम प्रधानमंत्री को बताना चाहते हैं कि बुंदेलखंड की जनता आपको कितना चाहती है. अगर आप यहां के लोगों के दिलों में न बसते होते तो बुंदेलखंड से बार-बार सभी सीटें भाजपा को न मिलतीं. हम लोगों ने प्रत्याशी नहीं देखे, सिर्फ आपको देखा है. अब आपकी बारी है आप इसे अलग राज्य घोषित कर दें।पांडेय  के साथ बुंदेलखंड राष्ट्र समिति के राम प्रसाद विश्वकर्मा, नास्त्रोदमस त्रिपाठी , शेर सिंह ,राजेश विश्वकर्मा , राम सरन प्रजापति ,राजेश विश्वकर्मा ,  सीता राम पासवान, संतोष केसरवानी  ने भी प्रधानमंत्री को खून से खत लिखे और उनको जन्मदिन की बधाई दी।

Popular posts
खेत जा रही देवरानी जेठानी को दबंग परिजनों ने पीटकर किया लहूलुहान
चित्र
ओम घाट में डूबती महिला को पीएसी जवान ने बचाया
चित्र
नगरी निकाय सामान्य निर्वाचन 2022 सहित तैयार कर आने जाने वाली मतदाता सूची के संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बैठक संपन्न
चित्र
आकाशीय बिजली गिरने से पेट्रोल पंप में हुआ भारी नुकसान
चित्र
नवागंतुक मुख्य विकास अधिकारी ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद विकास भवन के कार्यालय में जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय, सहकारिता कार्यालय, आरईएस, जल शक्ति कार्यालय आदि कार्यालयों का किया औचक निरीक्षण
चित्र