आखिर क्यों छेड़छाड़ पीड़िता को इंसाफ दिलाने के प्रति गंभीर नहीं है गाजीपुर थाना पुलिस

 आखिर क्यों छेड़छाड़ पीड़िता को इंसाफ दिलाने के प्रति गंभीर नहीं है गाजीपुर थाना पुलिस



विगत 29 सितंबर व 06 अक्टूबर को आरोपियों ने दिया था घटना को अंजाम


गाजीपुर पुलिस से इंसाफ न मिला तो 07 अक्टूबर को एसपी के द्वार पहुंची थी पीड़िता


पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बावजूद अभी तक नहीं लिखा गया मुकदमा


पीड़िता ने इंसाफ के लिए राज्य महिला आयोग समेत उच्चाधिकारियों के चौखट पर दी दस्तक


फतेहपुर। गाजीपुर थाना क्षेत्र के एक गांव निवासिनी महिला ने आए दिन दबंगो द्वारा छेड़छाड़ एवं मारपीट की घटना से आजिज होकर जब न्याय के लिए गाजीपुर थाना पुलिस से गुहार लगाई तो उसकी एक न सुनी गई और थाने से भगा दिया गया। थाने से भगाने के बाद पीड़िता पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाने पहुंची जहां पर पुलिस अधीक्षक ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गाजीपुर थानाध्यक्ष को कार्रवाई के सख्त निर्देश दिए थे, किंतु उसके बावजूद पीड़िता को आज तक इंसाफ नहीं मिल पाया है जिससे आहत होकर पीड़िता ने राज्य महिला आयोग समेत प्रदेश के उच्चाधिकारियों की चौखट पर दस्तक देकर न्याय की मांग की है।

गाजीपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की निवासिनी पीड़ित महिला ने राज्य महिला आयोग समेत जिलाधिकारी फतेहपुर, मानवाधिकार आयोग, पुलिस महानिदेशक समेत अन्य उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र भेजते हुए बताया कि विगत 29 सितंबर को गांव के ही गोरेलाल पुत्र प्रताप जो उस पर बुरी नजर रखता है और आए दिन उसके साथ छेड़खानी की घटना को अंजाम देता रहता है ने उसे उस समय गंदी नियत के चलते दबोच लिया जब वह खेत पर जा रही थी। पीड़िता ने बताया कि जब उसने इस बात का विरोध किया तो उक्त दबंग किस्म के व्यक्ति ने उसके साथ मारपीट की। पीछे से आ रहे उसके दिव्यांग पुत्र को भी दबंग व्यक्ति ने मारा पीटा। इस घटना की शिकायत लेकर जब पीड़िता गाजीपुर थाना पहुंची तो उसे इंसाफ नहीं मिला। गांव वालों के समझाने बुझाने पर पीड़िता मान गई और मामला रफा-दफा हो गया। इसके बाद  विगत 06 अक्टूबर को सुबह चार बजे के करीब गोरेलाल उसके घर में घुस आया और उसे दबोच कर गलत हरकत करने लगा, शोर शराबा मचाने पर उक्त व्यक्ति वहां से गाली गलौज देते हुए भाग गया और धमकी दिया कि अगर अपना मुंह खोला तो तुझे व तेरे परिवार को जान से मार दूंगा, नहीं तो हरिजन एक्ट का मुकदमा दर्ज कराकर पूरे घर को जेल भिजवा दूंगा। पीड़िता ने बताया कि इसके बाद वह फिर गाजीपुर थाने पहुंची जहां पर उसे फिर एक बार इंसाफ नहीं मिला। आहत होकर पीड़िता पुलिस अधीक्षक की चौखट पर सात अक्टूबर को पहुंची जहां पर पुलिस अधीक्षक ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गाजीपुर थानाध्यक्ष को उक्त दबंग के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए, किंतु पुलिस ने अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया है। पीड़िता ने बताया कि उक्त दबंग किस्म के गोरेलाल के भाई राजेश व भगवन्ता भी उसी का साथ देते हैं और शिकायत करने पर उसे व उसके दिव्यांग पुत्र को बुरी तरह मारने पीटने पर आमादा हो जाते हैं। पिता ने बताया कि उक्त लोगों ने वर्ष 2017 में भी उसके साथ मारपीट की थी जिसका मुकदमा गाजीपुर थाने में दर्ज किया गया था और उसका उपचार गाजीपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में चला था। पीड़िता ने उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र भेजते हुए आरोपियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की मांग की है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
हुसैनगंज थाना पुलिस और क्राइम ब्रांच टीम ने मिलकर चोरी की 10 मोटरसाइकिल के साथ दो लोगों को किया गिरफ्तार
चित्र
राजस्व टीम ने ग्राम सभा की नवीन परती जमीन को कब्जेदारों से कराया मुक्त
चित्र
जिलाधिकारी दीपा रंजन ने विकास खण्ड बिसण्डा के सभागार में ग्राम प्रधानों के साथ की समीक्षा बैठक
चित्र
तेज रफ्तार रोडवेज बस अनियंत्रित होकर खाई मे जा पलटी
चित्र
चोरी की पांच मोटर साइकिलों समेत पांच गिरफ्तार
चित्र