विपरीत परिस्थितियों में एम्बुलेंस कर्मचारियों ने कराया जुड़वाँ बच्चों का सुरक्षित प्रसव

 विपरीत परिस्थितियों में एम्बुलेंस कर्मचारियों ने कराया जुड़वाँ बच्चों का सुरक्षित प्रसव



फतेहपुर। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से संचालित  108 व 102 एम्बुलेंस सेवा शिखर पर है। जिले के रीजनल मैनेजर और प्रोग्राम मैनेजर नेतृत्व में जनपद की एम्बुलेंस स्वास्थ्य सेवा है। जिसे वो  दिन प्रतिदिन सवारने में लगे है। एम्बुलेंस सेवा को सरकार प्रथम पायदान में रखते हुए। हर उचित सुविधा उपलब्ध करा रही जो कि जनपद में देखने को मिल रही है। उत्तर प्रदेश सरकार ने एम्बुलेंस संचालन का जिम्मा GVK EMRI को दिया जो प्रदेश में एम्बुलेंस का संचालन कर रही है। बीते दिन एम्बुलेंस कर्मचारियों की सहजता और कार्य प्रसंसनीय रही आप को बताते चले की हथगाव सी एच्  सी में कार्यरत 102 एम्बुलेंस पे हथगाव ब्लॉक की प्रसुता महिला गीता देवी पत्नि विनोद के द्वारा प्रसव की सूचना दी गई मामले को गंभीरता से लेते हुए। तुरंत मौक़े पर पहुंचे इसके उपरांत प्रसव पीड़ित महिला को लेकर एम्बुलेंस अस्पताल  आ रही थी कि कुछ दूर निकलने पर प्रसुता की हालत बिगड़ने लगी और प्रसव पीड़ा अत्यादिक होने लगी एम्बुलेंस में कार्यरत कर्मचारिय राम भुलावन और फूलचंद ने मामले को देखते हुए इसकी जानकारी कंपनी में  कार्यरत डॉ कुशवाहा को दी डॉ के मार्गदर्शन और आशा मीना देवी की मदत से एम्बुलेंस कर्मचारियों ने प्रसुता गीता देवी ने दो स्वास्थ्य बच्ची को जन्म दिया जिसके उपरांत जच्चा बच्चा को अस्पताल में भर्ती कराया तो वहीं सराय खालिद में कार्यरत 108 एम्बुलेंस में भी अशोथर गांव की प्रसव पीड़ित महिला तुमसीन बनो पत्नी इन्त्यज ने प्रसव सूचना दी एम्बुलेंस प्रसुता को लेकर अस्पताल आ रही कि प्रसव पीड़ा अत्यादिक होने कारण प्रसुता का प्रसव एम्बुलेंस में हुआ एम्बुलेंस  कर्मचारिय शुशील और राजेश कुमार ने बड़ी समझदारी के साथ डॉ हरीश के मार्गदर्शन से सुरक्षित प्रसव कराया और जच्चा बच्चा सुरक्षित अस्पताल में भर्ती कराया  तो वही जिला अस्पताल  108 में कार्यरत रवि  और संतोष ने भी प्रसुता प्रियंका देवी का सुरक्षित प्रसव कराया।। और जच्चा बच्चा को सुरक्षित जिला अस्पताल में भर्ती कराया 

तो वही जिले के प्रोग्राम मैनेजर से एम्बुलेंस में प्रसव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस सेवा के लिए कोई भी मरीज कभी भी काल कर सकता अगर मरीज समय रहते एम्बुलेंस को कॉल करे तो प्रसूताओं को समय से अस्पताल पहुचाया जा सके लेकिन  प्रसव का समय निकट आने  पर काल किये जाने पर प्रसव एम्बुलेंस में ही हो जाते लेकिन एम्बुलेंस में कार्यरत कर्मचारी प्रशिक्षित होते। सेवा प्रदाता कंपनी GVK EMRI  के द्वारा डॉ की सुविधा 24 घण्टे उपलब्ध रहती जिनके मार्गदर्शन से कर्मचारी कार्य करते एम्बुलेंस में सारे समान की उपलब्धता होती है। जिसे विषम परिस्थितियों में इस्तेमाल किया जाता है। पिछले महीने में कर्मचारियों के द्वारा लगभग 20 से 25 सुरक्षित प्रसव कराये गए।। एम्बुलेंस में कार्यरत कर्मचारियों का समय समय मे प्रशिक्षण कराया जाता है। जिसे सभी कर्मचारिय अपने कार्य को सही से करते रहे। मये सभी कर्मचारियों के कार्य की प्रसंसा करता हु। और आशा करता हु।कि सभी कर्मचारी अपने कार्य को पूरी जिम्मेदारी से करते रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
लड़की से अभद्रता करना युवक को पड़ा भारी,
चित्र
रेलवे परिसर में बने हनुमान मंदिर को गिराने के लिए रेलवे प्रशासन की नोटिस
चित्र
नाबालिक हिंदू लड़की को अपहरण कर, धर्म परिवर्तन करने का दबाव बनाने वाले अभियुक्त के घर में चला बुलडोजर,
चित्र
डीआईजी एवं एसपी ने किया घटना स्थल का निरीक्षण, संदिग्ध परिस्थितियों में मिला था किसान का शव
चित्र
यातायात नियमों का पालन करने से होती अपनी सुरक्षा:एसडीएम
चित्र