उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव : आरक्षण को लेकर लखनऊ खंडपीठ में विचाराधीन याचिका पर अब शनिवार को होगी सुनवाई

 उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव : आरक्षण को लेकर लखनऊ खंडपीठ में विचाराधीन याचिका पर अब शनिवार को होगी सुनवाई



न्यूज़।उत्तर प्रदेश में स्थानीय निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण लागू किए जाने के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में विचाराधीन याचिका पर अब शनिवार को सुनवाई होगी। खंडपीठ ने यह आदेश रायबरेली निवासी सामाजिक कार्यकर्ता वैभव पांडेय व अन्य की जनहित याचिकाओं पर दिया। बीते बुधवार को सुनवाई के दौरान याचियों की ओर से दलील दी गई थी कि निकाय चुनावों में ओबीसी आरक्षण एक प्रकार का राजनीतिक आरक्षण है। इसका सामाजिक, आर्थिक अथवा शैक्षिक पिछड़ेपन से कोई लेना देना नहीं है। ऐसे में ओबीसी आरक्षण तय किए जाने से पहले सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गई व्यवस्था के तहत डेडिकेटेड कमेटी द्वारा ट्रिपल टेस्ट कराना अनिवार्य है,राज्य सरकार ने दाखिल किए गए अपने जवाबी हलफनामे में कहा है कि स्थानीय निकाय चुनाव मामले में 2017 में हुए अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के सर्वे को आरक्षण का आधार माना जाए। सरकार ने कहा है कि इसी सर्वे को ट्रिपल टेस्ट माना जाए। कहा है कि ट्रांसजेंडर्स को चुनाव में आरक्षण नहीं दिया जा सकता। पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा था कि किन प्रावधानों के तहत निकायों में प्रशासकों की नियुक्ति की गई है? इस पर सरकार ने कहा कि 5 दिसंबर 2011 के हाईकोर्ट के फैसले के तहत इसका प्रावधान है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
विकास को 7 बार किस सांप ने काटा? सामने आई सच्चाई, अफसरों ने सुलझाई सच और झूठ की पहेली
चित्र
विप्लवी ने असिस्टेंट कमिश्नर बन कर जनपद का नाम किया रोशन
चित्र
असोथर के 45 शिक्षकों ने संकुल पद से दिया इस्तीफा, धरना प्रदर्शन करके सरकार विरोधी लगाए नारे
चित्र
छात्र शौर्य द्विवेदी ने कबाड़ी से बनाई इलेक्ट्रिक बाइक
चित्र
सरकारी राशन की दुकान बंद,धान लगा रहे कोटेदार, राशन लेने के लिए भटक रहे कार्ड धारक
चित्र