मरीजों को लूटने के लिए फिर से खुल गए झोलाछापों के सटर

 मरीजों को लूटने के लिए फिर से खुल गए झोलाछापों के सटर



बेनाम अस्पताल में झोलाछाप ने किया पुरुष का ऑपरेशन 


फतेहपुर। अवैध अस्पतालों के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग का अभियान ठंडा क्या पड़ा गली कूंचे में खुले बेनाम अस्पतालों की चांदी हो गई है। जिन अस्पतालों के संचालक स्वास्थ्य विभाग की गाड़ी देख अपनी दुकान का सटर गिराकर भाग खड़े हुए थे वह अस्पताल एक बार फिर से गुलजार होने लगे है। शहर के लोधीगंज के रमवा रोड पर स्थित दो बेनाम अस्पतालो का सटर फिर से खुल गया है और मरीजों को इलाज के नाम पर लूटने का सिलसिला एक बार फिर से शुरू हो चुका है ! मंगलवार को इस बेनाम अस्पताल में एक झोला छाप ने एक मरीज का ऑपरेशन किया। ऑपरेशन के नाम पर मरीज के तीमारदारों से हजारों की रकम वसूल की गई। हैरत की बात तो ये है कि मरीज और उसके तीमारदारों को न तो डॉक्टर का नाम और न ही अस्पताल का नाम पता था। बिना नाम के संचालित इस अस्पताल में एक माह पूर्व एसीएमओ ने छापा मारा था लेकिन पहले ही जानकारी हो जाने पर संचालक अस्पताल बंद कर भाग गया था। जिसके बाद कई दिन अस्पताल बंद रहा लेकिन जैसे ही स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई शिथिल हुई वैसे फिर से संचालक दुकान खोल लोगो को लूटने लगे ! मामले में एसीएमओ ने बताया कि कई बार शिकायत मिल चुकी है। कार्रवाई की जाएगी।

टिप्पणियाँ