17 फरवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आ सकते हैं बांदा तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन,

 17 फरवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आ सकते हैं बांदा  तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन,



महाराणा प्रताप चौक में स्थापित महाराणा प्रताप, प्रतिमा एवं तीन दिवसीय कालिंजर महोत्सव का करेंगे उद्घाटन,


श्रीकांत श्रीवास्तव ब्यूरो बाँदा 


बांदा - उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनपद बाँदा के एक दिवसीय भ्रमण पर 17 फरवरी को आ सकते है। जिला मुख्यालय में महाराणा प्रताप चौक में स्थापित महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण, व इसके बाद ऐतिहासिक कालिंजर दुर्ग जाने की संभावना। 3 दिन दिवसीय कालिंजर महोत्सव का उद्घाटन कर सकते है। प्रशासन मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर तैयारियों में युद्ध स्तर पर जुटा है। महाराणा प्रताप चौक को चमकाने के लिए मजदूर लगाए गए हैं। जहां दिन-रात काम हो रहा है।

जानकारी के, अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 17 फरवरी को बांदा आएंगे। यहां के राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान में उनका हेलीकाप्टर उतरेगा। यहां से जिला अधिकारी कार्यालय और जेएन कॉलेज होते हुए सड़क मार्ग से महाराणा प्रताप चौक पहुंचेंगे। इसी चौक पर महाराणा प्रताप की प्रतिमा स्थापित की गई है और चौराहे को सुंदरीकरण किया जा रहा है। यहां पूर्व में स्थापित महाराणा प्रताप की प्रतिमा एक ट्रक की टक्कर से क्षतिग्रस्त हो गई थी। जिसका क्षत्रिय महासभा द्वारा विरोध किया गया था। इसके बाद यहां पर नई प्रतिमा स्थापित की गई है और चौराहे का सुंदरीकरण करके सड़कों को चौड़ा कर दिया गया है।  

अब सीएम के आगमन को लेकर प्रशासन इस चौराहे को और भव्य रूप देने में जुटा हुआ है। चौराहे में मूर्ति का अनावरण कार्यक्रम संपन्न होने के बाद मुख्यमंत्री ऐतिहासिक कालिंजर दुर्ग जाएंगे। इसी दुर्ग में तीन दिवसीय कालिंजर महोत्सव का आयोजन किया गया है। जो 17 से 19 फरवरी तक चलेगा। महोत्सव में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। साथ ही सरकारी योजनाओं को रेखांकित करने वाले स्टाल भी लगाए जाएंगे।

कालिंजर महोत्सव की तैयारी के सिलसिले में आज विकास भवन में सीडीओ की अध्यक्षता में समस्त विभागों की बैठक हुई। जिसमें उन्होंने महोत्सव को लेकर की जा रही तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने सभी संबंधित विभागों को निर्देश दिए हैं कि 16 फरवरी तक हर हालत में स्टाल लगाए जाएं। कालिंजर में ही नीलकंठेश्वर मंदिर है जहां शिवरात्रि को विशाल मेला लगता है। जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान नीलकंठेश्वर के दर्शन के लिए आते हैं। यहां हर साल कालिंजर महोत्सव होता है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
सरकारी जमीन पर मस्जिद निर्माण से तनाव, हिंदू संगठनों ने की महापंचायत
चित्र
सिर्फ इन लोगों को मुफ्त बिजली देगी सरकार, जानिए कैसे मिलेगा इसका लाभ
चित्र
असोथर बैंक के स्थापना दिवस पर संगोष्ठी एवं ग्राहक अभिनंदन के साथ किया गया वृक्षारोपण
चित्र
दुकानों में नेम प्लेट लगाने वाले आदेश पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा रोक लगाने पर राहुल प्रधान की प्रतिक्रिया
चित्र
दिवंगत शिक्षामित्रों की स्मृति में श्रद्धांजलि सभा 25 जुलाई को
चित्र