विप्र गाय देवता व संत सनातन धर्म के चार मूलाधार--- रोशनी शास्त्री

 विप्र गाय देवता व संत सनातन धर्म के चार मूलाधार--- रोशनी शास्त्री



श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन श्रद्धालुओं की उमड़ी भारी भीड़


बिंदकी फतेहपुर।विप्र धेनु देवता संत यह सभी सनातन धर्म के मूल आधार हैं यह बात खजुहा ब्लाक क्षेत्र के टिकरी गांव में चल रहे श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन ज्ञान की गंगा बहाते हुए रोशनी शास्त्री ने कहा विप्र के बिना धर्म के वास्तविक स्वरूप का ज्ञान एवं प्रतिपादन तथा आचरण संभव नहीं है यज्ञ आदि की धार्मिक क्रियाएं संपन्न नहीं हो सकती। देवताओं की कृपा के अभाव में अच्छे कर्मों का फल उचित प्रकार से नहीं मिल सकता है तथा प्राणी के गुणों का विकास भी नहीं हो सकता है संत सज्जन वास्तविक माननीय गुणों से परिपूर्ण होते हैं और भगवान इन्हीं चार के परीक्षण के लिए अवतार धारण करते हैं उन्होंने कहा कि दुखी व्यक्ति की सेवा करना मनुष्य जाति का सबसे बड़ा धर्म है और इस धर्म से ही जीवन का उद्धार होता है अतः सभी प्राणियों को ऐसा कोई कारण नहीं करना चाहिए जिससे दूसरे का मन दुखी हो जाए मनुष्य को सदैव ऐसे कार्य करना चाहिए कि दुखी आदमी में भी प्रसन्नता का भाव दिखाई दे यही अच्छे कर्म है और वास्तविक धर्म है श्रीमद् भागवत कथा सुनने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
विकास को 7 बार किस सांप ने काटा? सामने आई सच्चाई, अफसरों ने सुलझाई सच और झूठ की पहेली
चित्र
असोथर के 45 शिक्षकों ने संकुल पद से दिया इस्तीफा, धरना प्रदर्शन करके सरकार विरोधी लगाए नारे
चित्र
सरकारी जमीन पर मस्जिद निर्माण से तनाव, हिंदू संगठनों ने की महापंचायत
चित्र
असोथर बैंक के स्थापना दिवस पर संगोष्ठी एवं ग्राहक अभिनंदन के साथ किया गया वृक्षारोपण
चित्र
विप्लवी ने असिस्टेंट कमिश्नर बन कर जनपद का नाम किया रोशन
चित्र