पांच दिवसीय श्री रामचरित मानस सम्मेलन का हुआ समापन

 पांच दिवसीय श्री रामचरित मानस सम्मेलन का हुआ समापन




बांदा - स्थानीय रेलवे स्टेशन प्रांगण पर चल रही पांच दिवसीय 46 में वार्षिक श्री रामचरित मानस सम्मेलन कथा का आज विश्राम दिवस के अवसर पर चित्रकूट धाम से पधारे हुए संत मदन गोपाल दास जी की आज अध्यक्षता में आज 16 संपन्न हुआ है मदन गोपाल दास जी महाराज ने संबोधन में श्रोताओं को मानस में रामचरित के गूढ़ रहस्याओं की चर्चा क्रम में कहा कि जीवन के कर्म क्षेत्र में इन आदर्शों को उतार कर मानव अपना जीवन धन्य कर सकता है संत ने कहा कि यह परम सुखद सौभाग्य है कि बीते 45 वर्षों से यह सम्मेलन चित्रकूट धाम की पावन धरती बाबा रामदेव की नगरी बांदा में कुशलता पूर्वक सम्पन्न होता चला रहा है इस सम्मेलन की समिति को मैं बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं जो विगत 45 वर्षों से निरंतर इस कथा का श्रवण श्रोताओं को करवाने में अपना शारीरिक के साथ साथ तन मन धन से सहयोग कर रहे हैं

   वक्ताओं के क्रम में विश्वविख्यात ज्योतिषताचार्य पंडित श्याम बाजपेई जी ने अपने विचारों से जनता को ऐसा मोहित कर दिया की जनता करतल ध्वनि करती रही सम्मेलन में हजारों श्रृद्धाओं मंत्र मुक्त होकर  सत्संग का लाभ लेते रहे। ज्योतिषाचार्य पंडित श्याम वाजपेई ने कहा कि हमारा आप सभी का सौभाग्य है कि भगवान श्री राम की तपोभूमि में हम सभी को भगवान श्री राम की कथा सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है हमें उन्हीं के पद चिन्हो पर चलकर अपने आप को कृतज्ञ करना होगाl

इस सम्मेलन में समिति के सभी सदस्यों में राजकुमार बाजपेई ,विद्यासागर द्विवेदी, अनिल सक्सेना (पत्रकार),ब्रह्मानंद, सत्यनारायण मिश्रा, के के द्विवेदी, राघवेंद्र ,आत्माराम गुप्ता,सरोज त्रिपाठी ,आदि उपस्थित रहे और कार्यक्रम में अपना सहयोग प्रदान करते रहे।

टिप्पणियाँ