दूधी कगार शोभन सरकार धाम में मेले के चौथे दिन रही भारी भीड़


मंगलवार को होगा विशालकाय दंगल, प्रदेश के कोने-कोने से आएंगे पहलवान, दर्शनीय होगा दंगल यहां पहलवानों को मिलता है भारी पुरस्कार


गिरिराज शुक्ला
बिंदकी, फतेहपुर।
 संत शोभन सरकार के आशीर्वाद से दूधी कगार मेले के चौथे दिन रही भारी भीड़ मेले में आए लोगों ने रात दिन चल रहे विशाल भंडारे में पहुंचकर प्रसाद ग्रहण किया जानकारी के अनुसार संत शोभन सरकार के आशीर्वाद से लगने वाले पांच दिवसीय मेले में आज भारी संख्या में महिलाओं की भीड़ रही जहां पर महिलाओं ने पहले प्रसाद ग्रहण कर विशाल खन्ना की बड़ी-बड़ी दुकानों में पहुंचकर अपने घर की खरीदारी कर मेले का आनंद उठाया वहीं मेले में चल रही रामलीला में भी भारी संख्या में लोग कलाकारों द्वारा प्रस्तुति रामलीला की जमकर सराहना करते हुए कहा कि इस रामलीला में प्रदेश के बड़े-बड़े कलाकारों द्वारा अपनी कला के माध्यम से मेला में आए लोगों को आनंदित किया कोई मेला परिसर में बटुक ब्राह्मणों का कार्यक्रम चल रहा था जहां पर 26 ब्राह्मणों का कार्यक्रम संपन्न कराया गया जहां पर विद्वान आचार्य श्री बच्चन दीक्षित रमाकांत तिवारी उमेश जी शुक्ला जगत तिवारी समेत विद्वान आचार्यों द्वारा ब्राह्मणों का प्रवीण कार्यक्रम संपन्न कराया गया वहीं मेले में लगे झूले आकर्षण का केंद्र बने हुए थे जहां पर लोगों ने अपने बच्चों को झूले का आनंद दिला रहे थे आज मेले के चौथे दिन क्षेत्र के ही नहीं कई जनपदों के लोग मेले में पहुंचकर वहां की व्यवस्था को नतमस्तक करते हुए संत शोभन सरकार के आशीर्वाद से मेले का काम देख रहे संत गोपालजी महाराज अपनी पूरी टीम के साथ मेले में जायजा लेते दिखाई तो पढ़ रहे थे हजारों से ज्यादा लोग चंडिका माता के दर्शन करके संत शोभन सरकार के कृपा से चल रहे पांच दिवसीय मेले में अपने को वहां पर पहुंचना धन्य मान रहे थे कल के दंगल के आयोजन के बाद मेला समापन का कार्य होगा संत शोभन सरकार के इस मेला कार्यक्रम में अपनी महती भूमिका निभाने वाले संत गोपालजी महाराज आशीष कुमार सिंह उर्फ पिंटू गौतम सदस्य जिला पंचायत राम भवन सिंह परिहार पूर्व प्रधान कप्तान सिंह गौतम पूर्व सदस्य जिला पंचायत रामशरण सिंह परिहार पिंटू तिवारी पूर्व प्रधानाचार्य स्वयंबर सिंह राम प्रकाश सिंह चौहान पूर्व प्रधानाचार्य मुलायम सिंह यादव रामप्रकाश सविता चिंटू तिवारी पूर्व भाजपा अध्यक्ष रमाकांत त्रिपाठी 2 मई मंडल के भाजपा अध्यक्ष अरुण कुमार शुक्ला समेत भारी संख्या में लोग मेला की व्यवस्था में लगे रहे ।


 संत शोभन सरकार दूधी कगार के 5 दिन से मेले में सबसे खास वहां पर चल रहे विशाल भंडारे पर सत्गुर आश्रम की छात्र छात्राएं अपनी बड़ी मेहनत से भंडारे में रोजाना लाखों लोगों का प्रसाद खाना बड़ी बात रही जबकि भंडारे में सुबह से पूरी रात चलने वाले इस महा विशाल भंडारे में कहीं पर किसी भी प्रकार की कोई कमी देखने को नहीं मिली मेले में पहुंचने वाली महिलाएं व पुरुष लाइन लगाकर प्रसाद ग्रहण कर संत शोभन सरकार की जय जयकार करते नजर आए
 संत शोभन सरकार के दूधी कगार मेले में पांचवे दिन विशाल दंगल के आयोजन में उत्तर प्रदेश के कोने-कोने से आने वाले पहलवानों के लिए मेला व्यवस्थापक ने पूरी तरीके से तैयारियों को अंतिम रुप दिया कल होने वाले दंगल कार्यक्रम में संत गोपाल आनंद जी महाराज अपनी पूरी टीम के साथ दंगल की व्यवस्था का काम देखेंगे
संत शोभन सरकार का काम देख रहे संत गोपालजी महाराज कल होने वाले विराट दंगल के आयोजन की तैयारी का जायजा ले रहे थे वहीं मेले में संपूर्ण व्यवस्था का जायजा लिया मेले में 151 विद्वान आचार्यों द्वारा ब्राह्मण बट कोका यगोपवित कार्यक्रम में पहुंचकर उनको आशीर्वाद दिया कार्यक्रम में 26 ब्राह्मण वर्गों के यगोपवित कार्यक्रम में भारी संख्या में रही खासी भीड़
 संत शोभन सरकार के दर्शन न होने से मेले में पहुंचने वाले लोग करते नजर आ रहे थे कि पता नहीं कौन सा कारण है कि इस बार सरकार मेले में अपने भक्तों को दर्शन क्यों नहीं दिया सरकार के न पहुंचने पर वहां पर व्यवस्था का काम देख रहे लोगों से जब बात की गई तो बताया कि सरकार की पूरी कृपा है मेले में सरकार पूरी तरीके से अपनी नजर बनाए हुए हैं कहीं पर किसी भी प्रकार की समस्या नहीं है मेले के चौथे दिन व्यवस्था में लगे व्यवस्थापक पूरी मुस्तैदी के साथ कार्यक्रम को सफल बनाने में लगे रहे



Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र