मध्य प्रदेश में गाय के गोबर से बनाए गए दीये से आया आदिवासियों के जीवन में उजाला

इंदौर। अवसर किसी की राह नहीं देखता, बस उसे पहचानने वाला चाहिए। धार जिले के छोटे से गांव नावदापुरा के युवक कमल पटेल ने इसे चरितार्थ कर दिखाया है। कमल ने जब क्षेत्र के आदिवासी परिवारों के सामने रोजी-रोटी का संकट देखा तो इंटरनेट पर उनकी मदद का जरिया खोजना शुरू किया। थोड़े प्रयास से तरकीब मिल गई। कमल को गाय के गोबर से दीपक बनाने का तरीका पता चला।


एक गाय रखने वाले परिवार को हो रही दो हजार रुपये प्रति माह की आय


कमल ने पहले खुद दीपक बनाना सीखा फिर गांव के पांच लोगों को सिखाया। इन्होंने क्षेत्र के 25 आदिवासी परिवारों को प्रशिक्षण दिया। धार्मिक रूप से पवित्र माने जाने वाले गाय के गोबर से बने दीपक बिकने लगे। अब एक गाय रखने वाले परिवार को इससे दो हजार रुपये प्रति माह की आय हो रही है।


गाय के जिस गोबर को फेंक देते हैं, उसी से कमाई भी कर सकते हैं


स्नातक के दूसरे साल के बाद पढ़ाई छोड़ चुके कमल ने शहीद टंटिया मामा गो सेवा समिति बनाकर आदिवासी गोपालकों को इससे जोड़ा। इन परिवारों को बताया गया कि गाय के जिस गोबर को वे फेंक देते हैं, उसी से कमाई भी कर सकते हैं। प्रशिक्षण लेने वाले परिवारों की करीब 50 गायें अब कामधेनु बन गई हैं। उनका गोबर और घी, दीपक व बाती में उपयोग हो रहा है। कमल ने प्रत्येक परिवार को प्रति गाय 500 दीपक बनाने का कार्य सौंपा है।



मदद के लिए बढ़े हाथ


एक संस्था ने भी मदद के लिए हाथ बढ़ाया और चार रुपये में एक दीपक खरीदने का प्रस्ताव दिया है। दीपावली के त्योहार को देखते हुए गोबर से बने 12 दीपक, रुई और गाय के घी से बनीं 12 बातियों के बॉक्स को 75 रुपये में बेचा जा रहा है। कमल बताते हैं एक दीपक का वजन महज 10 ग्राम है। यह पानी में भी तैर सकता है। अब बड़े स्तर पर दीपक की बिक्री के लिए सांवरिया फाउंडेशन के सहयोग से मार्केटिंग की जाएगी।


स्नातक के दूसरे साल के बाद पढ़ाई छोड़ चुके कमल ने शहीद टंटिया मामा गो सेवा समिति बनाकर आदिवासी गोपालकों को इससे जोड़ा। इन परिवारों को बताया गया कि गाय के जिस गोबर को वे फेंक देते हैं, उसी से कमाई भी कर सकते हैं। प्रशिक्षण लेने वाले परिवारों की करीब 50 गायें अब कामधेनु बन गई हैं। उनका गोबर और घी, दीपक व बाती में उपयोग हो रहा है। कमल ने प्रत्येक परिवार को प्रति गाय 500 दीपक बनाने का कार्य सौंपा है।



मदद के लिए बढ़े हाथ


एक संस्था ने भी मदद के लिए हाथ बढ़ाया और चार रुपये में एक दीपक खरीदने का प्रस्ताव दिया है। दीपावली के त्योहार को देखते हुए गोबर से बने 12 दीपक, रुई और गाय के घी से बनीं 12 बातियों के बॉक्स को 75 रुपये में बेचा जा रहा है। कमल बताते हैं एक दीपक का वजन महज 10 ग्राम है। यह पानी में भी तैर सकता है। अब बड़े स्तर पर दीपक की बिक्री के लिए सांवरिया फाउंडेशन के सहयोग से मार्केटिंग की जाएगी।