शहीद दिवस के अवसर पर सूना रहा नोनारा गांव का शहीद स्मारक



 शहीद दिवस के अवसर पर सूना रहा नोनारा गांव का शहीद स्मारक



 फतेहपुर /जहानाबाद| थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत नोनारा में बने शहीद स्मारक में कल श्रद्धांजलि नहीं दी गई| कई दशकों से चली आ रही परंपरा जिसमें नोनारा गांव के लगभग 24 स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी जाती थी परंतु इस वर्ष पूर्ण रूप से सूनापन रहा| क्षेत्र के इस ऐतिहासिक स्थान पर कार्यरत ग्राम प्रधान एवं कार्यक्रम के सहयोगी मुनीश पंकज संजय आज के सराहनीय सहयोग से होता आ रहा था| नोनारा गांव में 26 फरवरी सन 1931 में हुए तहसीलदार हत्याकांड के बाद अमर शहीद शिवनारायण पुत्र गजोधर एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दुलारे पुत्र शिव नारायण के साथ  प्यारे लाल पुत्र शिवनारायण द्वारिका पुत्र जगन्नाथ लक्ष्मीनारायण पुत्र बदली सत्यनारायण पुत्र बदली  सहित लगभग 24 लोगों को श्रद्धांजलि दी जाती थी तथा देशभक्ति गीतों के साथ गीत संगीत से आश्रम गुंजायमान होता था परन्तु इस बार शहीद दिवस के अवसर पर सेनानियों के स्तंभ पर श्रद्धांजलि तो दूर माल्यार्पण करने वाला भी कोई दिखाई नहीं दिया| ग्रामीण मुकेश उत्तम ने बताया कि को रोना महामारी के चलते कार्यक्रम निरस्त कर दिया गया है| जबकि कार्यक्रम में कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले संजय एवं पंकज तिवारी से मिली जानकारी के अनुसार कार्यक्रम आगामी 26 फरवरी को सुनिश्चित किया गया है| उन्होंने बताया की तहसीलदार हत्याकांड 26 फरवरी 1931 को हुआ था जिसको लेकर हम सभी ग्रामवासी शहीद दिवस के दिन श्रद्धांजलि अर्पित ना करके 26 फरवरी को शहीद दिवस के रूप में भव्य कार्यक्रम कराएंगे| अनेक बताएं होने के कारण जनपद के सभी अधिकारी भी कार्यक्रम पर नहीं पहुंच पाते इस कारण यह कार्यक्रम इस वर्ष शहीद दिवस 30 जनवरी से अलग कर दिया गया है|