शिकायतों के निस्तारण मेें कौन से जिले ने मारी बाजी तो कौन रहा फिसडडी


 शिकायतों के निस्तारण मेें कौन से जिले ने मारी बाजी तो कौन रहा फिसडडी


जानियें आप का जिला है कौन से स्थान पर


लखनऊ। जनशिकायतों के निस्तारण को प्रभावी रूप् से लागू करने के लिए योगी सरकार ने सभी जिलों को रेंकिंग देने का निर्णय लिया था जिससे जहां उन्हें अच्छा कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके वही जो जिले जहां पहले से अच्छा कार्य हो रहा था उन्हें और भी अच्छा करने के लिए उत्साहित किया जा सके।

मुख्यमंत्री योगी के इसी योजना पर काम करते हुए आज जिनशिकायतों के निस्तारण में जिलों की रैंकिंग की घोषणा की गयी। आइये हम बतातें हैं इस रैकिंग में किस जिले ने बाजी मारी तो कौन रहा फिसडडी। शुक्रवार को जारी रैकिग में अमेठी, उन्नाव, फरूखाबाद, महोबा, शामली तथा हमीरपुर ने पूरे प्रदेश को आइना दिखाते हुए संयुक्त रूप से पहला स्थान प्राप्त करते हुए बडे बडे और महत्वपूर्ण जनपदों के लिए एक मिसाल कायम किया। वही बात की जाये इन महत्वपूर्ण जनपदों की तो राज्य के 75 जिलों में राजधानी लखनउ को बेहद ही शर्मनाक स्थिति 51वीं रैकिंग प्राप्त हुयी है।

इसी तरह जनपद गोण्डा और बारबंकी को संयुक्त रूप से 21वीं रैकिंग, श्रावस्ती को 16वीं, सुल्तानपुर को 29वीं, बलरामपुर को 31वीं। योगी आदित्यनाथ के लिए सबसे महत्वपूर्ण जनपद अयोध्या ने तो ओर भी निराश करते हुए 59वीं रैकिंग हासिल की है। इसी तरह बहराइच और सीतापुर को संयुक्त रूप् से 64वीं रैकं मिली है। इसी तरह सतंकबीर नगर को 7वीं, हरदोई और हापुड को संयुक्त रूप् से 8वीं, प्रतापगढ, रामपुर, रायबरेली तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र और धर्मनगरी काशी को संयुक्त रूप् से 10वीं रैकिंग हासिल हुयी है।

 सबसे निराशाजनक हाल तो सबसे बडे और महत्वपूर्ण जनपद आगरा और प्रयागराज का रहा जिन्होनें संयुक्त रूप् से इस रैकिंग का अतिंम स्थान प्राप्त करते हुए राज्य में अपनी शर्मनाक उपस्थिति दर्ज करायी है।

Popular posts
रेलवे ने दी गुड न्‍यूज, 15 अक्‍टूबर से चलेंगी 200 से ज्‍यादा नई स्‍पेशल ट्रेनें
चित्र
छोटे बच्चों को गांजा पिलाकर बर्बाद करने में उतारू संत
चित्र
पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने अंतोदय के सिद्धांत पर पूरे जीवन कार्य किया---- बीजेपी युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष
चित्र
*26 जुलाई कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को किया गया याद*
चित्र
उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव: एक-एक गांव के आरक्षण चार्ट के लिए अभी करना होगा इंतजार,पहले अफसरों को मिलेगी ट्रेनिंग
चित्र