स्वच्छता अभियान पर पलीता लगाता आईटीआई रोड का कूड़ा स्थल

 स्वच्छता अभियान पर पलीता लगाता आईटीआई रोड का कूड़ा स्थल


अन्ना जानवरों का बना चारागाह रोड पर पड़ा कूड़ा

फतेहपुर। शहर के आईटीआई रोड पर पड़े कूड़े की महत्वता तब समझ में आती है जब अन्ना जानवरों को पन्नियो में बंधा हुआ खाने पीने का सामान खाते नजर आते हैं।मगर पन्नी में बंधा हुआ राशन वह खाने की चीजों पर अन्ना जानवर पन्नी सहित उसको खा जाते हैं जिसके उपरांत जानवर रोग से ग्रसित बने रहते हैं वही नगर पालिका द्वारा जगह जगह में सुसज्जित व्यवस्था करके कूड़े दान की व्यवस्था की गई है मगर क्या उन कूड़ेदान  का उपयोग होता है ।यह भी नगर पालिका की अनदेखी के चलते मुख्य रोड से गुजरने वालों को उस कूड़े से आने वाली दुर्गंध और अन्ना जानवरों से होने वाली दिक्कतों का सामना करके रोड से गुजरना होता है।

जिसके चलते कई बार राहगीर हादसे का शिकार भी हो जाते हैं क्योंकि अन्ना जानवर आपस में ही लड़ते- लड़ते कभी-कभी रोड के बीचो बीच आ जाते हैं आवागमन व्यस्त होने के कारण लोग अनजाने में उनसे भिड़ कर हादसे को दावत देते रहते हैं

क्या इस कूड़े पर नगर पालिका की नजरे नहीं पड़ती उसी रोड से नगरपालिका का गलियों का कूड़ा वहीं रोड पर एकत्रित किया जाता है फिर नगर पालिका की गाड़ी आती है तब उठकर कूड़ा जाता है

मगर देखने की बात यह है जब तक कूड़ा पड़ा रहता है वहां जानवरों का आना जाना जारी रहता है मगर इस पर नगरपालिका के कर्मचारियों की नजर नहीं पड़ती नियमतह देखा जाए तो जो नगरपालिका की गाड़ी खड़ी रहती है गलियों का आने वाला कूड़ा कचरा गाडी पर ही डलवाए ना की रोड पर

लोगों को रोड पर पड़े कूड़ा कचरा पर दुर्गंध और जानवरों का सामना करना पड़ता है ऐसी में क्या नगरपालिका की जिम्मेदारी नहीं बनती कि सुव्यवस्थित कर कूड़े को कूड़ेदान में  डलाकर नगर पालिका की गाड़ी में लेकर जाए।