स्वच्छता अभियान पर पलीता लगाता आईटीआई रोड का कूड़ा स्थल

 स्वच्छता अभियान पर पलीता लगाता आईटीआई रोड का कूड़ा स्थल


अन्ना जानवरों का बना चारागाह रोड पर पड़ा कूड़ा

फतेहपुर। शहर के आईटीआई रोड पर पड़े कूड़े की महत्वता तब समझ में आती है जब अन्ना जानवरों को पन्नियो में बंधा हुआ खाने पीने का सामान खाते नजर आते हैं।मगर पन्नी में बंधा हुआ राशन वह खाने की चीजों पर अन्ना जानवर पन्नी सहित उसको खा जाते हैं जिसके उपरांत जानवर रोग से ग्रसित बने रहते हैं वही नगर पालिका द्वारा जगह जगह में सुसज्जित व्यवस्था करके कूड़े दान की व्यवस्था की गई है मगर क्या उन कूड़ेदान  का उपयोग होता है ।यह भी नगर पालिका की अनदेखी के चलते मुख्य रोड से गुजरने वालों को उस कूड़े से आने वाली दुर्गंध और अन्ना जानवरों से होने वाली दिक्कतों का सामना करके रोड से गुजरना होता है।

जिसके चलते कई बार राहगीर हादसे का शिकार भी हो जाते हैं क्योंकि अन्ना जानवर आपस में ही लड़ते- लड़ते कभी-कभी रोड के बीचो बीच आ जाते हैं आवागमन व्यस्त होने के कारण लोग अनजाने में उनसे भिड़ कर हादसे को दावत देते रहते हैं

क्या इस कूड़े पर नगर पालिका की नजरे नहीं पड़ती उसी रोड से नगरपालिका का गलियों का कूड़ा वहीं रोड पर एकत्रित किया जाता है फिर नगर पालिका की गाड़ी आती है तब उठकर कूड़ा जाता है

मगर देखने की बात यह है जब तक कूड़ा पड़ा रहता है वहां जानवरों का आना जाना जारी रहता है मगर इस पर नगरपालिका के कर्मचारियों की नजर नहीं पड़ती नियमतह देखा जाए तो जो नगरपालिका की गाड़ी खड़ी रहती है गलियों का आने वाला कूड़ा कचरा गाडी पर ही डलवाए ना की रोड पर

लोगों को रोड पर पड़े कूड़ा कचरा पर दुर्गंध और जानवरों का सामना करना पड़ता है ऐसी में क्या नगरपालिका की जिम्मेदारी नहीं बनती कि सुव्यवस्थित कर कूड़े को कूड़ेदान में  डलाकर नगर पालिका की गाड़ी में लेकर जाए।

Popular posts
अब बुजुर्गों और माता पिता की देखभाल के लिए मिलेगा 10 हजार रुपये, मोदी सरकार बदलेगी नियम न्यूज़।माता-पिता और बुजुर्गों की देखरेख के लिए अब केंद्र सरकार नया नियम लाने जा रही है. दरअसल, मेंटनेंस और वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 पर मानसून सत्र में फैसला लिया जा सकता है. बता दें कि सोमवार से ही मानसून सत्र शुरू हो चुका है। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन (अमेंडमेंट) बिल 2019 केंद्र सरकार के एजेंडा में काफी समय से था. मानसून सत्र की शुरुआत में ही केंद्र सरकार इस बिल को लेना चाहती है. दिसंबर 2019 में पास कर दिया गया था ये नियम। वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में पास कर दिया था। इस बिल का मकसद लोगों को माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों को छोड़ने से रोकना है। विधेयक में माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की बुनियादी जरूरतों, सुरक्षा और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के साथ उनके भरण-पोषण और कल्याण का प्रावधान बनाया गया है। देश में कोविड-19 महामारी की दो विनाशकारी लहरों के मद्देनज़र आने वाला यह विधेयक मौजूदा सत्र में संसद द्वारा पास होने पर वरिष्ठ नागरिकों और अभिभावकों को अधिक पावर देगा. इस बिल को संसद में लाने से पहले कई बदलाव किये गये हैं. जानें इस नियम से संबंधित अहम जानकारी- वेलफेयर ऑफ पेरेंट्स और सीनियर सिटिजन बिल कैबिनेट ने दिसंबर 2019 में बच्चों का दायरा बढ़ाया गया है। इसमें बच्चे, पोतों (इसमें 18 साल से कम को शामिल नहीं किया गया है) को शामिल किया गया है. इस बिल में सौतेले बच्चे, गोद लिये बच्चे और नाबालिग बच्चों के कानूनी अभिभावकों को भी शामिल किया गया है। अगर ये बिल कानून बन जाता है तो 10,000 रुपये पेरेंट्स को मेंटेनेंस के तौर पर देने होंगे. सरकार ने स्टैंडर्ड ऑफ लिविंग और पेरेंट्स की आय को ध्यान में रखते हुए, ये अमाउंट तय किया है। कानून में बायोलिजकल बच्चे, गोद लिये बच्चे और सौतेले माता पिता को भी शामिल किया गया है। मेंटेनेस का पैसा देने का समय भी 30 दिन से घटाकर 15 दिन कर दिया गया है।
चित्र
तू मेरी गीता पढ़ले मैं पढ़ लू तेरी कुरान, आपस मे भाई चारा निभा के बनायेगे नया हिंदुस्तान
चित्र
पाल सामुदायिक उत्थान समिति की ब्लाक इस्तरीय संगठनात्मक बैठक हुई सम्पन्न
चित्र
कानपुर में ठेले पर पान, चाट और समोसे बेचने वाले 256 लोग निकले करोड़पति
चित्र
योगी सरकार लोगों को देने जा रही फ्री वाईफाई सुविधा
चित्र